Connect with us

उत्तर प्रदेश

अयोध्या में गरजे स्वामी अभिषेक और रोहित सिंह, कहा- 2022 में होगा महापरिवर्तन

Published

on

अयोध्या में स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी एवं युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह ने कनक भवन में दर्शन-पूजन किया।
स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की उत्तर प्रदेश में अपराधियों का राज हो गया चारों ओर हत्या,अपहरण एवं लूट की घटनाएँ हो रही हैं और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सोए हुए हैं।

स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की किसानों के प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी निष्ठुर हैं।स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की भाजपा सरकारी संस्थाओं का दुरुपयोग कर रही है।स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की धर्म आस्था का विषय है परंतु भाजपा धर्म के आड़ में राजनीति कर रही है।

स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की उत्तर प्रदेश में युवा चेतना सड़क पर विपक्ष की भूमिका निभा रही है।
युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह ने कहा की उत्तर प्रदेश में जनता को एकजुट होकर 2022 में प्रदेश की तरक्की के लिए महापरिवर्तन कराना होगा।

श्री सिंह ने कहा की भाजपा को सत्ता से हटाने के लिए समाजवादी पार्टी,बसपा,कांग्रेस,आप और अन्य सेक्युलर शक्तियों को एक मंच पर आना होगा।श्री सिंह ने कहा की युवा चेतना उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में प्रत्याशी उतारेगी।श्री सिंह ने कहा की योगी सरकार अपराधी-पुलिस गठबंधन की सरकार है।

श्री सिंह ने कहा की योगी आदित्यनाथ की सरकार को लगभग 4 साल होने को है कोई 3 काम बताएँ जिसे जनता माडल माने।श्री सिंह ने कहा की युवा चेतना गाँव,गरीब,किसान,मजदूर और नौजवान की लड़ाई लड़ रही है।श्री सिंह ने कहा की हमारी प्राथमिकता उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाना है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

featured

मंगल पांडेय की धरती पर होगा सपा का ब्राह्मण सम्मेलन, बलिया आयेंगे अखिलेश यादव

Published

on

बलिया। उत्तरप्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में ब्राह्मण वर्ग अब केंद्र में आ गया है। बहुजन समाज पार्टी के बाद अब समाजवादी पार्टी भी अपने परंपरागत वोट यादव-मुस्लिम के साथ ब्राह्मणों को जोड़ने के लिए अगस्त से सम्मेलन आयोजित करेगी। सपा के 30 साल के इतिहास में यह पहला मौका है, जब पार्टी ब्राह्मणों को जोड़ने का अभियान शुरू करने जा रही है।मंगल पांडे की धरती बलिया से सम्मेलन की शुरुआत 23 अगस्त को होगी।जिसमें पूर्व सीएम अखिलेश यादव शामिल होंगे।

कार्यक्रम की जिम्मेदारी भी सपा के 5 ब्राह्मण नेताओं के कंधों पर रखी गई है। ब्राह्मण वोटर भाजपा का कोर वोटर माना जाता है। विधानसभा चुनाव से पहले इस समाज को अपने साथ करने के लिए सभी दलों ने ताकत झोंक दी है। बसपा के बाद अब सपा द्वारा ब्राह्मण वोटरों को लुभाने के लिए पूरे प्रदेश में ब्राह्मण सम्मेलन कराने की तैयारी शुरू की गई है। सपा सूत्रों के अनुसार, सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माताप्रसाद पांडेय, पूर्व मंत्री अभिषेक मिश्रा, मनोज पांडेय, पवन पांडेय और सनातन पांडेय को ब्राह्मण सम्मेलन की जिम्मेदारी दी है।

खास बात यह है कि ब्राह्मण सम्मेलन की शुरुआत 23 अगस्त को टाउन डिग्री कॉलेज के मैदान बलिया से होने की संभावना है। ब्राह्मण सम्मेलन में पूर्वांचल सहित प्रदेश के ब्राह्मण नेताओं का जमावड़ा होगा। इसमें सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव भी शिरकत करेंगे। इसकी तैयारी अभी से शुरू हो गई। पूर्व विधायक सनातन पांडेय ने कहा कि केंद्र और प्रदेश में भाजपा सरकार की तानाशाही से लोकतंत्र खतरे में है। ब्राह्मण प्रबुद्ध वर्ग है। इस संबंध में अखिलेश यादव की ब्राह्मण नेताओं के साथ बैठक हुई।

तय किया गया कि इस तानाशाही को रोकने के लिए ब्राह्मणों को आगे आना होगा। 23 अगस्त को होने वाले कार्यक्रम में राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ ही सभी नेता मौजूद रहेंगे। सपा जिला प्रवक्ता सुशील कुमार पांडेय ने कहा कि जब से प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में भाजपा की सरकार बनी है, राज्य में ब्राह्मणों के उत्पीड़न की घटनाओं में बेतहाशा वृद्धि हुई है। इसे देखते हुए राष्ट्रीय नेतृत्व ने इस समाज को संगठित करने के निर्देश दिए हैं। इसकी शुरुआत बलिया की धरती से करने का निर्देश दिया है। ताकि ब्राह्मण बिरादरी को एकजुट कर उनका उत्पीड़न रोका जा सके।

उत्तरप्रदेश की सियासत में ब्राह्मणों का वोट बैंक सभी राजनीतिक पार्टियों के अहम हैं। यूपी में 13 प्रतिशत ब्राह्मण वोट हैं। मौजूदा स्थिति में ब्राह्मण विधायक हैं। 12 जिलों में 20 प्रतिशत से ज्यादा ब्राह्मण वोट हैं। हालांकि चुनाव से पहले सभी राजनीतिक पार्टियां ब्राह्मण वोट को साधने में लगी हैं। देखना होगा कि चुनाव में किस पार्टी को कितना फायदा होता है।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

बलिया में चार घंटे बिताएंगे CM, चार साल में छठवीं बार हो रहा आगमन, देखें तैयारी की तस्वीरें

Published

on

बलिया। जनपद में मुख्यमंत्री का आगमन 18 जून को होने जा रहा। जिसको लेकर पूरे दिन प्रशासन तैयारियों में लगा रहा। गुरुवार की सुबह छह बजे जिलाधिकारी, मुख्य विकास अधिकारी सहित कई अधिकारी कलेक्ट्रेट सभागार में पहुंचे, जहां मातहतों के साथ जिलाधिकारी ने मीटिंग की। इसके बाद प्रशासनिक अमला टीडी कालेज की तरफ रवाना हुआ। मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर जहां एक तरफ नगर के गड्ढायुक्त सड़कों को पाटने का काम तेजी से चल रहा था वहीं दूसरी ओर कलेक्ट्रेट सभागार को सजाने व संवारने का काम भी तेजी से चल रहा है। शुक्रवार को मुख्यमंत्री सुबह साढ़े दस बजे हेलीकॉप्टर से गोरखपुर से प्रस्थान करेंगे, इसके बाद ११ बजकर १० मिनट पर पुलिस लाइन

कार्यालय पहुंचेंगे। ११ बजकर २५ मिनट पर जिला अस्पताल के लिए रवाना होंगे, जहां कोविड अस्पताल के साथ जिला अस्पताल का निरीक्षण करेंगे। इस दौरान वैक्सीनेशन सेंटर को भी करीब से जानेंगे। १२ बजकर पांच मिनट पर गांव का भ्रमण, १२ बजकर ३५ मिनट पर प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के अंतर्गत नि:शुल्क खाद्यान्न वितरण कार्यक्रम का निरीक्षण। इसके बाद निगरानी समिति के सदस्य के साथ संवाद उसके बाद कार लगभग १२.५० मिनट पर कलेक्ट्रेट सभागार पहुंचेंगे जहां जनप्रतिनिधियों एवं जनपद के कोर ग्रुप के साथ बैठक करेंगे। जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था, कोविड नियंत्रण के संदर्भ में तथा बलिया के विकास के कार्यों की समीक्षा करेंगे।इसके बाद १५.१० पर जनपद से रवाना हो जाएंगे। इसबीच १४.४० से १४.५५ तक पत्रकारों से रू-बरू होंगे। बात दें कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार बनने के बाद पहली बार चांदपुर सहतवार में आयोजित कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए आए थे। इसके बाद निकाय चुनाव में पुलिस लाइन के परेड ग्राउंड में आयोजित चुनावी कार्यक्रम को संबोधित करने आए थे। तीसरी बार वे दुबे छपरा में बाढ़ क्षेत्र का दौरा करने के लिए आए थे। इसके बाद २०१९ में माल्देपुर में आयोजित लोकसभा चुनावी रैली में प्रधानमंत्री का स्वागत करने के लिए आए थे। इसके बाद २०२० में कोरोना काल में कोविड अस्पताल का जायजा लेने बलिया आए थे और अब शुक्रवार को एक बार फिर योगी जी बलिया आ रहे हैं।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

बलिया के रहने वाले उपजिलाधिकारी की कोरोना से मौत, पंचायत चुनाव की ड्यूटी से लौटे थे

Published

on

बलिया : बलिया जिले के मूल निवासी बदायूं के सहसवान तहसील में उपजिलाधिकारी के पद पर तैनात किशोर गुप्ता का गुरुवार को बरेली के निजी अस्पताल में इलाज के दौरान निधन हो गया. कोरोना संक्रमण से पीड़ित रहे गुप्ता करीब 60 साल के थे.

जिलाधिकारी दीपा रंजन ने बताया कि किशोर गुप्ता सहसवान तहसील में उपजिलाधिकारी के पद पर तैनात थे. पंचायत चुनाव के दौरान वह कोविड से संक्रमित हो गए थे और उनका बरेली के राम मूर्ति स्मारक मेडिकल कॉलेज में उपचार किया जा रहा था. देर रात उन्हें सांस लेने में काफी परेशानी हुई और आज सुबह पांच बजे उनका निधन हो गया.

उप जिलाधकारी किशोर गुप्ता के निधन पर तहसील स्टाफ और अधिवक्ताओं ने शोक व्यक्त किया है. गुप्ता आगामी 30 जून को सेवानिवृत्त होने वाले थे.

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!