Connect with us

बेल्थरा रोड

Belthara Road नीरज हत्याकांड : अदालत ने तीन आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई

Published

on

बलिया डेस्क : बलिया की एक स्थानीय न्यायालय ने  बेल्थरा रोड में एक दलित युवक नीरज की हत्या के साढ़े पांच साल पुराने बहुचर्चित मामले में कल तीन आरोपियों को दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है ।

जानकारी के बिल्थरारोड कस्बे में गत 3 अगस्त 2005 की शाम को बच्चों के विवाद में नीरज नामक दलित युवक 22 वर्ष का अपहरण कर उसकी चाकू से गोंदकर हत्या कर दिया गया तथा शव को कस्बे के बीबीपुर मुहल्ले में झाड़ी में फेंक दिया गया । इस मामले में घटना के अगले दिन मृतक के पिता बैजनाथ ने छह लोगों के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 364 , 302 , 120 बी व 201 तथा एस सी / एस टी एक्ट की सुसंगत धारा में नामजद मुकदमा दर्ज कराया ।

अपर जिला जज दिनेश कुमार मिश्र के न्यायालय ने दोनों पक्षों व साक्ष्यों के परिशीलन के बाद कल एजाज अहमद , अजहर व गोल्डेन उर्फ अमीर को दोषी करार देते हुए आजीवन कारावास व बीस – बीस हजार रुपये के अर्थ दण्ड की सजा सुनाई है । न्यायालय ने एजाजुद्दीन शेख व सद्दाम को संदेह का लाभ देकर निर्दोष करार दिया है। इस मामले में एक आरोपी कमरान का मामला किशोर न्यायालय में विचाराधीन है । गौरतलब हो कि दलित युवक की हत्या के बाद बिल्थरारोड कस्बे में साम्प्रदायिक तनाव की घटना हुई थी ।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बेल्थरा रोड

सीयर सीएचसी विवाद थमा- बंद कमरे में हुआ समझौता, सोमवार से चलेगी ओपीडी

Published

on

बलिया। उभांव इंस्पेक्टर ज्ञानेश्वर मिश्रा और चिकित्सकों के बीच हुआ विवाद अब थम गया है। जानकारी के मुताबिक इंस्पेक्टर ज्ञानेश्वर मिश्रा और चिकित्सकों के बीच ग़लतफ़हमी अब दूर हो गई है। जिसके बाद चिकित्सक कल यानी सोमवार से काम पर लौट रहे हैं। आपको बता दे कि कल चिकित्सकों को समझाने के लिए एसडीएम व सीओ भी अस्पताल पहुंचे थे लेकिन चिकित्सक नहीं माने। जिसके बाद रविवार को सीएमओ बलिया डाक्टर तन्मय कक्कड़, एसडीएम सर्वेश यादव की मौजूदगी में बन्द कमरे में समझौता हो गया।

बंद कमरे में हुआ समझौता– सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सीयर के चिकित्सकों व उभांव थाने के कोतवाल से हुए विवाद का आज रविवार को बन्द कमरे में समझौता हो गया। सीएमओ कक्कड़ ने बताया कि मैंने प्रभारी चिकित्साधिकारी डाक्टर साजिद हुसैन व उभांव थाने के कोतवाल ज्ञानेश्वर मिश्र की बात सुनी और जनहित को देखते हुए सम्मानजनक समझौता हो गया। कहा कि अस्पताल को पुलिस सहायता भी मिलेगी और ओपीडी व कोरोनारोधी वैक्सिन भी लगेगा।

अब विवाद कोई नही रह गया, इसके साथ ही सुचारू रूप से काम जनहित में चलेगा। समझौता वार्ता संपन्न कराने के बाद सीएमओ कक्कड़ ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर अस्पताल की ओपीडी, दवा स्टोर, रोगी वार्ड, ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्था का विधिवत निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान सीएमओ के साथ अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी हरिनंदन प्रसाद भी मौजूद थे।

 

Continue Reading

featured

बलिया- दलित युवती के कथित अपहरण मामले में युवक गिरफ्तार, अंतर्धामिक शादी का है मामला

Published

on

बलिया। जिले में एक दलित युवती के साथ मुस्लिम युवक द्वारा कथित तौर पर विवाह करने का मामला सामने आया था, जिसे करणी सेना ने लव जिहाद बता कर जमकर हंगामा किया था। अब इस मामले में पुलिस ने पिता के कथित अपहरण के आरोपों पर दो युवकों को गिरफ्तार कर लिया है।  बताया जा रहा है कि 28 जुलाई को दलित युवती के पिता ने थाने में लिखित प्रार्थना पत्र देते हुए पुलिस से शिकायत की कि मेरी 18 वर्षी बेटी को दिलशाद पिता मनऊवर सिद्दकी (निवासी पडरी थाना

उभांव जनपद बलिया) बहला फुसला कर शादी करने के लिए अपहरण कर लिया और अपने साथ ले गया है । मेरी बेटी कुछ दिनों से लापता थी लेकिन मुझे सूचना मिली कि मेरी लड़की को आरोपी बलिया लेकर गया है। वहीं 29 जुलाई को दलित युवती को लेकर पड़री गांव का निवासी दिलशाद जिला मुख्यालय स्थित कचहरी में विवाह का पंजीकरण कराने गया था। तभी करणी सेना वाले ने उनसे पूछताछ की और हंगामा करते हुए दलित युवती और मुस्लिम युवक को थाने ले गए। जहां पुलिस ने लड़की के पिता की शिकायत पर युवक के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज किया था।

पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए उभांव इंस्पेक्टर ज्ञानेश्वर मिश्रा के द्वारा अभियुक्त की गिरफ्तारी के लिए टीम गठित की गई थी। उभांव पुलिस लगातार आरोपी की तलाश में जुटी थी। जिसके बाद मुखबिर की सूचना पर आज इंस्पेक्टर ज्ञानेश्वर मिश्रा के नेतृत्व में उप निरीक्षक दिनेश शर्मा ने मय फोर्स के साथ कार्यवाही करते हुए  दिलशाद  और ईरशाद पुत्र  मनऊर निवासी ग्राम पड़री थाना उभांव जनपद बलिया को रेलवे स्टेशन बेल्थरा रोड से समय करीब 07.30 बजे गिरफ्तार कर लिया।

Continue Reading

featured

बलिया- स्वास्थ्य विभाग लामबंद, अस्पताल बंद, केवल इमरजेंसी सेवाएं संचालित रहेंगी

Published

on

बलिया। शुक्रवार के दिन अपनी वर्दी की हनक दिखाते हुए चिकित्सक पर रौब जमाने वाले इंस्पेक्टर  के खिलाफ डॉक्टर्स अब लामबंद हो गए हैं। डॉक्टर्स ने गुंडई दिखाने वाले कोतवाल के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए अस्पताल बंद रखने का ऐलान कर दिया है। इस दौरान केवल इमरजेंसी सेवाएं संचालित रहेंगी। अस्पताल के प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉक्टर से बदसलूकी के बाद अस्पताल के अन्य चिकित्सक कोतवाल पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। सूत्रों की माने तो डॉक्टरों ने ट्रांसफर या माफी मांगने के लिए कहा है।

यह है मामला- बीते दिन दो सिपाही सीयर सीएसची पर इंस्पेक्टर का फिटनेस सर्टिफिकेट बनवाने पहुंचे। वहां तैनात प्रभारी चिकित्साधिकारी ने बिना इंस्पेक्टर के आए किसी तरह के फिटनेस सर्टिफिकेट देने से इंकार कर दिया। इस पर इंस्पेक्टर ज्ञानेश्वर मिश्र झल्ला गए। आधे घंटे बाद वह स्वयं सीयर अस्पताल पहुंंचे और वहां प्रभारी चिकित्साधिकारी के साथ बदसलूकी की। डॉक्टर साजिद हुसैन ने कहा कि बिना कोविड 19 जांच किए किसी तरह का फिटनेस दिया जाना संभव नहीं है। लेकिन इंस्पेक्टर ने धमकी भरे लहजे में कहा कि अब थाने आकर कोविड जांच करना और फिटनेस देना।

साथ ही इंस्पेक्टर ने अस्पताल में ही अपने सिपाहियों को सख्त हिदायत भी दी कि बिना मेरे इजाजत के अस्पताल पर कोई भी सिपाही नहीं पहुंचेगा और किसी भी स्वास्थ्यकर्मी या अस्पताल के मामले में किसी तरह की मदद नहीं होगी। पूरे घटनाक्रम के बाद अस्पताल स्टाफ में आक्रोश है। इंस्पेक्टर पर कार्रवाई की मांग की जा रही है। साथ ही डॉक्टर्स का कहना है कि इंस्पेक्टर के इस बर्ताव के विरोध में इमरजेंसी सेवाओं को छोड़कर अस्पताल बंद रखा जाएगा। अन्य काम नहीं किया जाएगा। देखना होगा कि डॉक्टर्स के इस कदम के बाद आखिर पुलिस विभाग इंस्पेक्टर पर क्या कार्यवाही करता है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!