Connect with us

featured

UP: 19 जिला जजों के तबादले, जानिए कौन हैं बलिया के नए जिला जज

Published

on

उत्तरप्रदेश में इस बार जजों के तबादले किए गए हैं। कुल 19 जिला जज व दो अपर जिला जजों का स्थानांतरण हुआ। इसके पहले 8 अक्टूबर को हुए तबादले निरस्त कर दिए गए हैं और अब तबादले के नए आदेश जारी हुए हैं।

इन आदेशों के अनुसार अब बलिया के जिला न्यायाधीश पद पर विकार अहमद अंसारी को जिम्मेदारी मिली है। इससे पहले अंसारी हमीरपुर के जिला जज रह चुके हैं।अहमद अंसारी उत्तरप्रदेश के बिजनौर जिले से हैं। 1964 में जन्मे अहमद अंसारी ने 1988 में अपनी LLB और 1991 में LLM की डिग्री हासिल की। इसके बाद से वह न्यायिक क्षेत्र में काम कर रहे हैं। इससे पहले वह इलाहाबाद, फतेहपुर, उन्नाव, लखनऊ, कानपुर, हमीरपुर में अपनी सेवाएं दे चुके हैं।

वहीं तबादलों की सूची पर गौर करें तो लैंड एक्विजिशन रिहैबिलिटेशन ट्रिब्युनल गौतम बुद्ध नगर के चेयरमैन शिवशंकर प्रसाद चेयरमैन जिला व सत्र न्यायाधीश फर्रुखाबाद बनाया गया है। इसी प्रकार मयंक कुमार जैन को कानपुर, राम मनोहर नारायण मिश्र को लखनऊ और रजत सिंह जैन को मेरठ के जिला जज बनाया गया है। डॉ दिनेश चंद्र शुक्ल प्रयागराज में स्पेशल जज एमपी/एमएलए जज होंगे।

जिला जज मथुरा विवेक संगल को आगरा का जिला जज बनाया गया है। मोटर एक्सीडेंट क्लेम ट्रिब्युनल बलरामपुर के चेयरमैन अनुपम गोयल को जिला जज हमीरपुर, जिला जज शामली कैराना डॉ अजय कुमार को जिला जज मुरादाबाद, कॉमर्शियल कोर्ट लखनऊ के पीठासीन अधिकारी रामेश्वर को जिला जज मऊ, हापुड़ के जिला जज राजीव भारती को जिला जज मथुरा, जिला जज फर्रुखाबाद चवन प्रकाश को मुजफ्फरनगर भेजा गया है। कॉमर्शियल कोर्ट बरेली के पीठासीन अधिकारी सुशील कुमार रस्तोगी को जिला व सत्र न्यायाधीश शाहजहांपुर, लैंड एक्वीजेशन ट्रिब्युनल बरेली के पीठासीन अधिकारी डॉ दीपक स्वरूप सक्सेना को गोंडा का जिला जज बनाया गया है।

कॉमर्शियल कोर्ट फैज़ाबाद के पीठासीन अधिकारी अशोक कुमार यादव को सोनभद्र का जिला जज बनाया गया है। कॉमर्शियल कोर्ट बस्ती के पीठासीन अधिकारी गिरीश कुमार को जिला जज शामली बन गया है। लैंड एक्विजिशन ट्रिब्युनल इलाहाबाद के पीठासीन अधिकारी बृजेंद्र मणि त्रिपाठी को हापुड़ का जिला जज बनाया गया है।

featured

बलिया में सरकारी एंबुलेंस सेवा खस्ताहाल, जिलेभर के मरीज परेशान

Published

on

बलिया की एंबुलेंस सेवा खस्ताहाल है। मरीज की स्थिति चाहे सामान्य हो या गंभीर, एंबुलेंस न तो समय पर पहुंचती है और न ही समय पर अस्पताल पहुंचाती हैं। हालत गंभीर होने पर मरीजों को निजी साधन से अस्पताल पहुंचाना पड़ रहा है। ऐसे में जिलेभर में मरीज परेशान हैं।

बता दें कि जिले में मरीजों की सुविधा के लिए निशुल्क एंबुलेंस सेवा संचालित की जा रही है। इसके लिए 76 एंबुलेंस उपलब्ध कराई गई हैं। इनमें 38 एंबुलेंस 102 नंबर और 38 एंबुलेंस 108 नंबर की है। इन एंबुलेंस का रिस्पांस टाइम 11 मिनट तय किया गया है। यानि कि जब मरीज फोन करे तो 11 मिनट में ही एंबुलेंस पहुंचना चाहिए। लेकिन इन नियमों का पालन नहीं हो रहा। 11 मिनट की बजाए एंबुलेंस आधे से एक घंटे से देर से पहुंच रही है। चालक दूर होने की बात कहकर पल्ला झाड़ लेते हैं।

हालत बिगड़ने पर मरीज को निजी साधन से अस्पताल पहुंचाना पड़ता है। कई बार समय से न पहुंचने के कारण एंबुलेंस में ही प्रसव हो जाते हैं। कई एंबुलेंस तो मरम्मत व रखरखाव के अभाव में खस्ताहाल हो गई हैं। जिला अस्पताल में कुछ एंबुलेंस को इधर-उधर खड़ा कर छोड़ दिया गया है। धूप, बारिश में वे खुले में सड़ रही हैं। सीएमओ आवास पर कई एंबुलेंस कबाड़ हो चुकी हैं। उनके अधिकांश पार्ट्स गायब हैं या खराब हो चुके हैं।

एम्बुलेंस प्रभारी प्रभाकर यादव ने बताया कि जिला अस्पताल से करीब 12 से 14 मरीज वाराणसी के लिए रेफर होते हैं। वहां 108 एंबुलेंस जाकर 12 घंटे तक फंस जाती है। मरीजों के लिए पास के हनुमानगंज में पांच एंबुलेंस रहती है जिन्हें तत्काल भेज दिया जाता है। वहीं सीएमओ डॉक्टर जयंत कुमार का कहना है कि कई बार हमने देरी से पहुंचने की बात को बैठकों में कहा है। रिस्पांस टाइम का पालन हो, इसके लिए सेवा प्रदाता को पत्र भेजा गया है। हर हाल में समय का पालन होना चाहिए।

 

Continue Reading

featured

बलियाः जिला अस्पताल के फार्मासिस्ट का कारनामा, मरीज को खड़ा कर ही लगा दिया इंजेक्शन

Published

on

बलिया जिला अस्पताल की बदतर व्यवस्थाओं के किस्से आपने सुने होंगे। अब अस्पताल की व्यवस्थाओं की पोल खोलती एक तस्वीर सामने आई है। जहां फार्मासिस्ट अशोक सिंह ने मरीज को लेटाकर इंजेक्शन लगाने के बजाय खड़ा कराकर ही इंजेक्शन लगा दिया। फार्मासिस्ट की इस लापरवाही से बुजुर्ग मरीज दर्द से कराहता रहा।

बुजुर्ग को खड़े कर इंजेक्शन लगाने की तस्वीर वायरल हुई है। जिसके बाद तमाम सवाल उठ रहे हैं। जब फार्मासिस्ट से पूछा कि आपने इस तरीके से सुई क्यों लगाई, जिस पर अपनी गलती मानने के बजाए वह पत्रकारों को धमकाया। बता दें कि जिला अस्पताल में अक्सर स्टाफ मरीजों की सही से देखभाल नहीं करते और आए दिन इलाज में लापरवाही करते हैं।

इसी बीच रविवार दोपहर चार बजे फार्मासिस्ट अशोक सिंह वार्ड में गए और मरीज को खड़े-खड़े ही इंजेक्शन लगा दिया। वहां मौजूद पत्रकार ने इस लापरवाही को अपने कैमरे में कैद कर लिया। बस फिर क्या, फार्मासिस्ट अशोक सिंह पत्रकारों पर भड़क गए। उन्होंने कहा कि मेरी मर्जी में कैसे भी इंजेक्शन लगाऊं, आप पत्रकार लोग वीडियो कैसे बनाएं, हम आपकी जिला अस्पताल में इंट्री बंद करवा देंगे। उधर इस संबंध में जब सीएमएस डॉक्टर दिवाकर सिंह से बात की गई तो उन्होंने छुट्टी का हवाला देकर प्रभारी सीएमएस डॉक्टर वीके सिंह के पाले में गेंद डाल दी। वहीं जब पत्रकारों ने डॉक्टर वीके सिंह से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने फोन नहीं उठाया।

Continue Reading

featured

PM जन विकास योजना का विस्तार, बलिया में इन अल्पसंख्यक क्षेत्रों को मिलेगा लाभ

Published

on

बलिया। उत्तरप्रदेश में अल्पसंख्यक वर्ग को मजबूत करने के लिए सरकार लगातार काम कर रही है। जहां अब अल्पसंख्यक समाज को मजबूत और शिक्षित बनाने के लिए चल रही प्रधानमंत्री जन विकास योजना का दायरा भी बढ़ाया गया है। ऐसे में अब बलिया जिले के भी कुछ क्षेत्रों को योजना का लाभ मिलेगा। इस योजना के जरिए शिक्षा, स्वास्थ्य और कौशल विकास आदि के क्षेत्र में अल्पसंख्यकों को मजबूत बनाने के लिए भौतिक और सामाजिक ढांचे के विकास पर फोकस रहेगा।

25 फीसदी आबादी पर मिलेगा लाभ- नगरपालिका और नगर पंचायतों में जहां भी अल्पसंख्यकों की आबादी 25 प्रतिशत से अधिक है, वहां 5 किमी परिधि में सबसे अधिक आवश्यकता वाले विकास कार्यों को कराया जाएगा। सब कुछ ब्लॉक स्तरीय कमेटी की रिपोर्ट पर होगा। अल्पसंख्यक कल्याण विभाग की देख-रेख में उन कस्बों या गांवों में शिक्षा, स्वास्थ्य, खेल मैदान, आंगनबाड़ी केंद्र, सामुदायिक भवन, तकनीकी स्कूल, कॉलेज, लाइब्रेरी, छात्रावास आदि के विकास कार्य कराए जाएंगे। अल्पसंख्यक आबादी की गणना साल 2011 की जनगणना के अनुसार होगी

इन क्षेत्रों को मिलेगी विकास की संजीवनी- बलिया जिले में सदर तहसील, सिकंदरपुर, रसड़ा और बिल्थरारोड में अल्पसंख्यक समाज को विकास की संजीवनी मिल सकती है। क्योंकि इन क्षेत्रों में अल्पसंख्यकों की आबादी 25 प्रतिशत से अधिक है।

हर जिले में होगा विकास- अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी दिव्य दुर्गेश सिन्हा ने बताया कि पहले भारत सरकार अल्पसंख्यक युवाओं को कौशल प्रदान करने के लिए MSDP यानि मल्टी सेक्टोरल डेवलपमेंट के तहत अल्पसंख्यक बाहुल्य नगर, कस्बा और गांवों में बहुक्षेत्रीय विकास करती थी। उसमें जिला शामिल नहीं था । इस वजह से यहां के अल्पसंख्यक समाज को लाभ नहीं मिल पाया। अब इसका विस्तार कर दिया गया है। ब्लॉक स्तरीय रिपोर्ट के आधार पर कार्ययोजना बनाकर विकास कार्य होंगे।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!