Connect with us

featured

10वीं के परिणाम को लेकर नाखुश छात्र, सुसाइड-हंगामे में उलझा रिजल्ट, आखिर गड़बड़ कहाँ हुई?

Published

on

बलिया। सीबीएसई ने बिना परीक्षा लिए परिणाम घोषित तो कर दिया लेकिन सैकड़ों विवादों को भी पनाह दे दिया। जिले के एक प्राइवेट स्कूल पर आरोप लगाते हुए छात्र और मैनेजर का ऑडियो वायरल हुआ तो वहीं एक अन्य प्राइवेट स्कूल के छात्र ने रिजल्ट आने के अगले ही दिन आत्महत्या कर ली। अन्य कई स्कूलों के खिलाफ भी बीते कई दिनों में प्रदर्शन हुए हैं। हालांकि सीबीएसई ने अंक देने की प्रक्रिया में बताया है कि किसी को भी फेल नहीं किया जाना है। इसके बाद भी विद्यार्थियों के बीच ऐसा असंतोष सीबीएसई समेत विद्यालयों के अंक निर्धारित करने की पूरी प्रक्रिया पर सवाल खड़े कर रहा है। क्या है मामला – बीते सप्ताह भर में दसवीं के परिणामों से नाखुश होने के बाद जिले के विद्यार्थियों के तरफ से तीन बड़ी प्रतिक्रिया आईं हैं।

1.स्कूलों के विरोध में प्रदर्शन- कोलबंस इंटरनेशनल स्कूल के खिलाफ प्रदर्शन : परीक्षा में कम नंबर आने से यहां के विद्यार्थी नाखुश हैं और स्कूल प्रबंधन को दोषी ठहरा रहे हैं। छात्रों का कहना है कि स्कूल प्रबंधन ने अच्छे प्रदर्शन के बावजूद भी कम नंबर दिए, जिसके चलते उनका रिजल्ट खराब रहा। इसी बीच कोलंबस इंटरनेशनल स्कूल नगरा के गेट पर हाईस्कूल के छात्रों ने धरना भी दिया। हमने विद्यालय प्रशासन से बात करने की कोशिश की मगर उनका सार्वजनिक नंबर लगातार स्विच ऑफ आता रहा।

सेंट थॉमस स्कूल के विद्यार्थियों का जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन : नगर के सेंट थॉमस स्कूल के विद्यार्थियों ने जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन कर पत्रक सौंपा। उनकी शिकायत भी अंक कम दिए जाने की है। इस अवसर पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने इन विद्यार्थियों का समर्थन भी किया। हमने विद्यालय प्रशासन से बात करने की कोशिश की मगर संपर्क नहीं हो सका। 2. ज्ञान कुंज एकेडमी के प्रधानाचार्य-प्रबंधक का ऑडियो वायरल: जिले के सिकंदरपुर में स्थित ज्ञानकुंज एकेडमी का कहा जा रहा एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है। इस ऑडियो में एक बच्चे से पहले महिला और फिर एक शख्स बात कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि यह ऑडियो विद्यालय की प्रधानाचार्या, प्रबंधक और छात्र के बीच का है।

पूरी बातचीत में प्रबंधक कहे जा रहे शख्स ने धमकी भरे लहज़े में छात्र को मारने पीटने तक की बात कही है। इस मसले पर हमने विद्यालय प्रशासन से भी बात करने की कोशिश की। हमारी बात विद्यालय में फिजिक्स के पीजीटी विकास मिश्रा से हुई। उन्होंने बताया, ‘देखिए, हमारे पास सभी बच्चों के रिकॉर्ड हैं। नंबर कम है तो उसका कारण है। हमने अपने स्तर से नहीं किया है। सीबीएसई की गाइडलाइन है कि साल भर में हुए सभी एक्जॉम के प्रतिशत को जोड़ कर अंक देना है। उस बच्चे का कहना है कि सिर्फ प्री बोर्ड के आधार पर नंबर चढ़ाया जाए।’

3. छात्र ने की आत्महत्या- मनःस्थली एजुकेशन सेंटर के छात्र ने की खुदकुशी : रेवती स्थित मनःस्थली एजुकेशन सेंटर से पढ़ाई कर रहे अंश कुमार ने सीबीएसई 10वीं बोर्ड के परीक्षा परिणाम आने के बाद आत्महत्या कर ली। इस दौरान स्कूल के बाहर प्रदर्शन भी किया गया और प्रदर्शनकारियों ने रेवती-बैरिया मुख्य मार्ग पर धरना देते हुए सड़क को जाम कर दिया। हमने विद्यालय प्रशासन से बात करने की कोशिश की। लेकिन संपर्क नहीं हो सका।  सीबीएसई ने क्या तरीका अपनाया है: 10वीं के परिणामों के इस असंतोष को समझने से पहले आईये जान लेते हैं कि सीबीएसई ने परिणाम जारी करने के लिए विद्यालयों के लिए क्या एडवाइज़री जारी की थी।

सीबीएसई की गाइडलाइन के अनुसार विद्यार्थी को पूर्णांक 100 में से 20 अंक इंटरनल एसेज़मेंट और 80 अंक साल के अंत में होने वाले प्री बोर्ड एग्जाम के हवाले से दिया गया। साथ ही इंटरनल एसेज़मेंट में ली गई परीक्षा की कॉपिया सीबीएसई के पोर्टलों पर अपलोड की गई। इसके अतिरिक्त बचे हुए 80 अंकों में 10 अंक यूनीट टेस्ट, 30 अंक अर्धमासिक परीक्षा और 40 अंक प्री बोर्ड की परीक्षा के आधार पर दिए गए। स्कूलों का दावा है कि उन्होंने यही प्रक्रिया अपनाई है। फिलहाल सीबीएसई की इस प्रक्रिया से साफ है कि 20 अंक विद्यालय की तरफ से इंटरनल एसेज़मेंट के आधार पर दिया जाना था।

बाकी के 80 अंकों के लिए साल भर में हुई परीक्षाओं को आधार बना कर अंक दिए गए हैं। फिलहाल सीबीएसई से 10वीं के रिजल्ट आने के बाद जिले के आधा दर्जन से अधिक बड़े प्राइवेट स्कूलों के विद्यार्थी सड़क पर आ चुके हैं। सवाल है कि इतनी फीस देकर भी हमारी पढ़ाई लिखाई की प्रक्रिया इतनी जटिल है कि इम्तेहान हों अथवा ना हों 10वीं के परिणाम से नाखुश छात्र आत्महत्या तक कर ले रहे हैं। रिजल्ट आने के बाद आत्महत्या की यह पहली घटना नहीं है लेकिन क्या 10वीं के छात्र को आत्महत्या का ख़याल न आने दे, ऐसी कोई पढ़ाई इस कोर्स में नही जोड़ी जा सकती है?

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

featured

बलिया में एक बार फिर 9 अभियुक्तों पर जिला बदर की कार्रवाई, तीन के शस्त्र लाइसेंस भी निरस्त

Published

on

बलियाः जिला मजिस्ट्रेट अदिति सिंह ने गुण्डा एक्ट अधिनियम के तहत 9 लोगों को छह महीने के लिए जिला बदर किया है। वहीं 5 लोगों पर इस अधिनियम के तहत कार्यवाही करने के लिए जारी कारण नोटिस वापसी की कार्यवाही की है।

जिलाधिकारी ने विरेन्द्र सोनी उर्फ पप्पू निवासी घोडहरा थाना दुबहड, विशाल पटेल उर्फ पिन्टू निवासी पिलुई थाना मनियर, अशोक चौहान निवासी रामपुर बर्रेबोझ थाना रसडा, मारकण्डेय मिश्रा निवासी भेडौरा थाना उभांव, अविनाश सिंह उर्फ सिंकू निवासी डुमरिया थाना सहतवार, रामाकान्त सिंह निवासी सरदासपुर थाना रसडा, खुर्शीद निवासी वार्ड नम्बर 10 कस्बा रेवती थाना रेवती, रोहित यादव निवासी शाहपुर आंफगा थाना उभांव, सुदामा यादव निवासी टघरौली थाना बांसडीह रोड को जिला बदर किया है। वहीं आफताब अली, मोहम्मद अली हुसैन व

समशुददीन निवासी छोटकी सेरिया थाना बांसडीह, पवन कुमार सिंह पुत्र विक्रम सिंह निवासी मरौटी भैसंहा थाना रेवती, शिवम चौधरी पुत्र अवधेश चौधरी निवासी कस्बा रेवती थाना रेवती के खिलाफ जारी कारण बताओ नोटिस वापस लेने का निर्णय जिला मजिस्ट्रेट अदिति सिंह ने लिया है।

तीन शस्त्र लाइसेंस निरस्त, दो वाहन जब्त

जिला मजिस्ट्रेट ने तीन अभियुक्तों का शस्त्र लाईसेंस निरस्त किया है। अजीमुल्लाह पुत्र सफिउल्लाह निवासी बहेरी थाना कोतवाली, सुशील कुमार सिहं उर्फ झाबर निवासी फेफना थाना फेफना, हरिन्द्र यादव पुत्र मुसाफिर यादव निवासी बिलारी थाना सुखपुरा के शस्त्र लाइसेंस को निरस्त कर दिया है। वहीं दो गोवध अधिनियम के अन्तर्गत सद्दाम कुरैशी निवासी उमरगंज थाना कोतवाली बलिया, रविन्द्र कुमार निवासी गनेश धर्मकाटा तरना शिवपुर वाराणसी के वाहन को जब्त करने की कार्रवाई की है।

Continue Reading

featured

जल्द पूरा हो चौकिया-तेंदूआ मार्ग निर्माण, वरना अनशन पर बैठूंगा: पूर्व विधायक

Published

on

बेल्थरारोडः कई आंदोलनों और लंबी जंग के बाद चौकिया-तेंदूआ मार्ग का निर्माण शुरु हुआ था। लेकिन अब मार्ग की मरम्मत का काम रुक गया है। अधूरे मार्ग निर्माण ने लोगों की परेशानी और भी बढ़ा दी है। मार्ग पर जगह जगह गिट्टी-मिट्टी, कीचड़ से राहगीर परेशान हो रहे हैं।

नागरिकों की इन्हीं समस्या को देखते हुए अब समाजवादी पार्टी से पूर्व विधायक गोरख पासवान ने आवाज उठाई है और मार्ग निर्माण शुरु न होने पर आमरण अनशन की चेतावनी दी है। पूर्व विधायक ने बलिया ख़बर से बातचीत के दौरान कहा कि चौकिया-तेंदूआ मार्ग की चार किलोमीटर की रोड सालभर से अधूरी पड़ी है। निर्माण कार्य ठप्प है।

इस रोड़ पर पानी गिरने से कीचड़ हो जाता है और धूल-मिट्टी से राहगीर परेशान होते हैं। लेकिन काम कराने के बजाए जनता को कभी रोलर दिखा दिया जाता है, कभी जेसीबी, पर असल में काम नहीं होता। पूरे मार्ग में धूल उड़ती है। जिससे लोग बीमार हो रहे हैं। स्वशन संबंधी दिक्कतें हो रही हैं। हादसे हो रहे हैं। लेकिन सुनवाई नहीं की जा रही।

ऐसे में पूर्व विधायक ने सरकार को चेतावनी दी है कि यदि सोमवार 13 तारीख तक रोड़ नहीं बनाई गई तो सपा पार्टी के लोग मंडी पर इकट्ठा होंगे और जुलूस के माध्यम से एसडीएम को ज्ञापन देंगे और उसी दिन से मैं चरणसिंह की मूर्ति पर अनशन करूंगा। विधायक का कहना है कि अनशन के 3 दिन बाद तक भी कोई सुनवाई नहीं होगी तो वह मार्ग बनने तक आमरण अनशन करेंगे।

विधायक का कहना है कि जनता रोज चिल्लाती है। व्यापार-आवागमन सब प्रभावित हुआ है। आसपास के लोग परेशान होकर सरकार से आग्रह कर रहे हैं। सपा भी कई बार ज्ञापन दे चुकी है। लेकिन अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई। इसलिए अब लड़ाई आर-पार की होगी। अगर सरकार नहीं मानती है तो सपा उग्र आंदोलन करेगी।

Continue Reading

featured

Ballia News- बैरिया में शराबियों का आंतक! राहगीर पर किया चाकू से हमला

Published

on

बलिया के बैरिया थाना क्षेत्र में शराबियों का आतंक देखने को मिल रहा है। जहां नशे में धुत्त कुछ युवकों ने सड़क से गुजर रहे राहगीर पर चाकू से हमला कर दिया। हमले में युवक गंभीर रुप से घायल हो गया। जिसे वाराणसी के अस्पताल में भर्ती किया गया है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के मुताबिक बैरिया थाना क्षेत्र के चांददीयर चौकी अंतर्गत प्रांतीय सीमा से सटे सरकारी बीयर की दुकान की यह घटना है। जहां दुकान के सामने कुछ लोग बीच रास्ते में ही शराब पी रहे थे। तभी वहां से चांददीयर गांव निवासी जयराम यादव 22 पुत्र बीरन यादव गांव के ही गुड्डू यादव के साथ घर का सामान खरीदने टोला शिवन राय के चट्टी पर जा रहा था।

जयराम ने शराब पी रहे युवकों से रास्ते से हटने को कहा तो वह लोग भड़क गए और जयराम पर चाकू से हमला कर दिया। इस हमले में जयराम को गंभीर चोटे आई। घायल के साथी ने ग्रामीणों को सूचना दी। जिसके बाद घायल को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सोनबरसा पहुंचाया गया। वहीं घायल की हालत को गंभीर देखते हुए उसे वाराणसी रेफर कर दिया गया।

बताया जा रहा है कि घटनास्थल पर मौजूद लोगों ने हमलावरों की तलाश शुरु की। एक आरोपियों को पकड़ कर लोगों ने उसकी पिटाई कर दी। जबकि बाकी लोग भाग निकले। मामले को लेकर चांददीयर पंचायत निवासी सुमेर यादव आदि ग्रामीणों का आरोप है कि इस बीयर की दुकान के पीछे रेस्टोरेंट की तरह बैठने की व्यवस्था है।

यहां बिहार के लोग रोजाना आकर अड्डा जमाते हैं। आरोप लगाया कि चांददीयर पुलिस की मिलीभगत से यह कार्य हो रहा है। कई बार शिकायत के बावजूद कार्यवाही तक नहीं हुई। वहीं मामले को लेकर जब बैरिया एसएचओ शिवशंकर सिंह ने बातचीत की तो उन्होंने कहा घटना की जानकारी मिली है। अभी कोई तहरीर नहीं मिली है। तहरीर प्राप्त होते ही कार्रवाई की जाएगी।

 

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!