Connect with us

featured

बलिया की जर्जर 72 सड़कों की मरम्मत के लिए 60 करोड़ की राशि जारी, देखें पूरी डिटेल्स

Published

on

बलिया में जर्जर हो चुकी 72 सड़कों की सूरत बदलने के लिए शासन ने 60 करोड़ की राशि जारी कर दी है। 2020 में इन सड़कों के निर्माण के लिए प्रस्ताव को स्वीकृति मिली थी। पहली किस्त मिलने के बाद काम शुरू हुआ लेकिन पैसे के अभाव में निर्माण पूरा नहीं हो पाया। ऐसे में दूसरी किस्त में 60 करोड़ से ज्यादा की धनराशि दी गई है। सरकार के द्वारा बलिया में सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है। नई सड़कें बनाने के साथ ही पुरानी जर्जर हुई सड़कों को सुधारा जा रहा है। इसी योजना के तहत 72 सड़कों का पुनर्निर्माण करने का काम शुरू हुआ। इसके लिए शासन की तरफ से पहली किस्त की धनराशि भी जारी की गई थी।

मिट्टी और गिट्टी का कार्य कराने के बाद पैसों के अभाव में इन परियोजनाओं का कार्य बंद हो गया। अधूरी सड़कों के कारण ग्रामीण परेशान हो रहे थे। जिसके बाद धनराशि की मांग के लिए डिमांड शासन को भेजी गई थी। अब परियोजनाओं की शेष बची धनराशि को दूसरी किस्त के रूप में जारी कर दिया गया है।शासन की तरफ से पकड़ी हरख बसंत में आरआर पब्लिक स्कूल से नहर पुलिया और संपर्क मार्ग के लिए 79.09 लाख, विश्वनाथपुर में मुख्य नहर से प्रमुदास बाबा की कुटी तक मार्ग के लिए 36.25 लाख, डिहवा सलेमपुर मार्द से वीरपुरा, विश्वनाथपुर, सुल्तानपुर संपर्क मार्ग के लिए 1.82 करोड़, टीकादेवरी-अनुसूचित बस्ती संपर्क मार्ग के लिए 16.04 लाख, हथौली-चन्नाडीह

संपर्क मार्ग के लिए 12.95 लाख, हजौली-बाबू के पुरा संपर्क मार्ग के लिए 11.53 लाख, हजौली से पांडेय का पुरा के लिए 10.41 लाख, बुढ़ऊ से अनुसूचित बस्ती के लिए 7.10 लाख की राशि दी गई है।इसके साथ ही मटिही से अनुसूचित बस्ती के लिए 6.15 लाख, तद्दीपुर से पश्चिमपुरा के लिए 6.07 लाख, चिलकहर से हरिपुर के लिए 5.89 लाख, हजौली से लाली के पुरा तक 34.98 लाख, गोपालपुर से मठिया के लिए 18.52 लाख, मुख्य मार्ग से उदयपुर के लिए 17.75 लाख, चलिकहर से चौरियां चकारी के लिए 17.27 लाख, वीरापुर से अनुसूचितक बस्ती के लिए 16.57 लाख, हथौली से मलाहीचक के लिए 16.57 लाख, कुरेजी बंगला मार्ग से इंग्लिशिया के लिए 34.25 लाख, हथौज से बड़की कौड़िया नहर तक 1.50 करोड़ की राशि मिली है।

वहीं खड़सरा-जिगिड़िसर से अकटही नटाव तक 1.12 करोड़, रतसर-प्रानपुर से मिसिंग लिंक के लिए 19.16 लाख, पचखोरा-करम्मर-बेरुआरबारी मार्ग के लिए 3.42 करोड़, पंदह-धनेजा मार्ग के लिए 38.63 लाख, वंशीबाजार-तेंदुआ होते हुए हुसेनपुर अनु सूचित बस्ती तक 79.89 लाख, पूर रजवाहा से रतसी के लिए 79.89 लाख, पकड़ी रतसी मार्ग से तेनुही के लिए 35.72 लाख, सहुलाई से सहरोजा चौहान बस्ती तक 1.05 करोड़, पकड़ी मिश्रौली से सवन के लिए 72.14 लाख, जिम्मीचक प्रसादपुर से यादव बस्ती तक 52.91 लाख, खड़सरा-जिगिड़सर से राजू पाठक के टोला के लिए 96.80 लाख, हरपुर से चवरी के लिए 1.48 करोड़, नहर की पटरी जमुआ से बनकटा तक के लिए 93.29 लाख, अ्रखैनी नटवा से जिगिड़सर अहिरौली के लिए 1.38 करोड़, गुलरबाग से इंटर कालेज के लिए एक करोड़, इसारपीथापट्टी से बरमनिया के लिए डेढ़ करोड़ की राशि मिली है।

हरदिया जमीन डीह बाबा से तेंदुआ तक 1.23 करोड़, डकिनगंज से चौहान बस्ती तक 6.50 लाख, डकिनगंज से धरहरा तक 1.55 करोड़, हथौज अजनेरा से बड़सरी जागीर तक 1.47 करोड़, मंगुआपार मोड़ से बभनौली तक 1.01 करोड़, रामापार कुटी से गौरी दीक्षित टोला तक 1.49 करोड़, पकड़ी गढ़मल मार्ग से आश्रम तक 72.39 लाख, बिहरा में राजभर बस्ती से माल्दह-बिहरा मार्ग तक 1.10 करोड़, अतरसुआ रविदास मंदिर से फतेह सिंह के डेरा तक 1.63 लाख, रसड़ा प्रधानपुर से कोतवाली तक 1.02 करोड़, नगपुर-चिलकहर मार्ग से नफरेपुर तक 1.26 करोड़, नगपुर-रसड़ा मार्ग से राजभर बस्ती तक 1.09 करोड़, नसरतपुर बंधे से यादव बस्ती तक 1.26 करोड़, अतरौली पपीएमजीएसवाई मार्ग से अनुसूचित बस्ती तक 1.10 करोड़ की राशि से काम पूरा होगा।

शाहपुर-अतरौली-करमौता मौर्ग से कुड़सर निकासी तक दो करोड़, सिहोरिया संपर्क मार्ग से राजभर बस्ती तक 1.10 करोड़, चिलकहर-टीकादेवरी रोड से राजभर बस्ती तक 1.56 करोड़, गौरा-नफरेपुर प्रधानमंत्री सड़क से तुलसी के पुरा तक 1.45 करोड़, शाहमोहम्मदपुर रोड से शाह महावलपुर तक 1.28 करोड़, पुरा पशुहारी सिसैंड मौर्ग से ससना बहादुरपुर तक एक करोड़, बेल्थरा बाजार से श्मशानघाट तक 91.14 लाख, मौनिया बाबा मंदिर संपर्क मार्ग के लिए 1.32 करोड़, रसूलपुर संपर्क मार्ग से पकड़बोझा तक 1.03 करोड़, नवापुरा से लहुरापाही चौहान बस्ती तक 91 लाख, अहिरौली-सरयां-पतौई मार्ग के लिए 91.32 लाख, चैनपुरा से गुलौरा मठिया के लिए 1.27 करोड़, अठगांवा से जमीन

इंदौली संपर्क मार्ग के लिए 1.49 करोड़, भदौरा तरछापार मार्ग से पतनारी झरना तक 1.10 करोड़, गड़वार सुखपुरा मार्ग के लिए 41.76 लाख, गाजीपुर-बलिया मार्ग के लिए 61.70 लाख, बांसडीह सुखपुरा मार्ग के लिए 47.34 लाख रुपये की राशि जारी की है। अब राशि जारी होने के बाद सड़कों का निर्माण जल्द ही पूरा होने की उम्मीद है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

featured

टशन में रह गए बलिया के बड़े अधिकारी और दिनदहाड़े हो गया खेल!

Published

on

बलिया में अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाता बेहद ही संवेदनशील मामला उजागर हुआ है। जहां एक आरोपी ने न सिर्फ़ अधिकारियों की आंखों में धूल झोंकी बल्कि फर्जी अधिकारी बनकर अधिकारियों के साथ ही छापामार कार्रवाई की। इस कार्रवाई में कुछ व्यापारियों को गिरफ्तार भी किया गया। अब व्यापारी फर्जी अधिकारी के साथ मौजूद अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।

नाम बदलकर पैसा ऐंठता है आरोपी- बता दें कि जड़ी बूटी विक्रेता पारसनाथ गुप्ता, रोशन कुमार पटेल, संदीप कुमार, संजीव कुमार और अनिल कुमार को वन विभाग ने बीते 18 और 19 सितंबर को छापा मारके आपत्तिजनक सामग्री बेचने के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। इस बीच पीड़ित परिजनों को हरियाणा के जिंद जिले के एसपी ने फोन कर बताया कि आप लोगों की दुकानों पर छापेमारी के दिन जो वन अधिकारी बनकर गया था। वे कोई अधिकारी नहीं बल्कि फर्जी आदमी है।

अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग- आरोपी दीपक की इसके पहले कई जगह गिरफ्तारी भी हुई है। बीते दिनों अयोध्या में भी उसकी गिरफ्तारी हुई थी। हर जगह वे अपना नाम बदल कर घटना को अंजाम देता है, फिर पैसा ऐंठकर फुर्र हो जाता है। यह खबर आग की तरह व्यापारियों में फैलते ही व्यापारियों ने ओकडेगंज पुलिस चौकी के सामने चक्काजाम कर दिया। शनिवार को कलेक्ट्रेट में भी प्रदर्शन किया। और अधिकारियों पर कार्रवाई की मांग की।

सवालों में प्रशासन- सबसे बड़ा सवाल यह है कि जिस दिन दीपक फर्जी वन अधिकारी बनकर छापेमारी करने आया था उस दिन साथ में डीएफओ, सिटी मजिस्ट्रेट और सीओ सिटी भी जांच के दौरान मौजूद थे। क्या किसी की आंखें फर्जी वन अधिकारी को नहीं पहचान पाई। जबकि पुलिस को स्कैनिंग करने की खास ट्रैनिंग दी जाती है। बावजूद जिस तरह दीपक ने सबकी आंखों में धूल झोंका है। उससे यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि डीएफओ, सिटी मजिस्ट्रेट और सीओ सिटी अपने पद के काबिल नहीं है।

जिले में शिवम ठाकुर बनकर दिया घटना को अंजाम –  बता दें कि फर्जी वन अधिकारी का असल नाम दीपक है। जबकि 18 और 19 सितंबर को जिस दिन चौक में छापेमारी हुई थी, उस दिन दीपक अपना नाम शिवम ठाकुर बताया था। इतना ही नहीं डीएफओ के पास भी जो दस्तावेज दिए उसमें वे शिवम ठाकुर ही बताया। लेकिन अधिकारियों ने दस्तावेज का वेरिफिकेशन नहीं किया। 

पहले से मामले हैं दर्ज-  उसके ऊपर पहले से ही 420 ई ब्लैक मेलिंग के मुकदमे दर्ज हैं। जब इस बात की सूचना बलिया मे पहुंची तो अधिकारियों में हड़कंप मच गया। वही व्यापार मंडल ने इस मामले को डीएम के समक्ष रखकर व्यापारियों की रिहाई और संलिप्त अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। अब सवाल यह है कि जालसाज इतनी बड़ी साजिश को स्थानयी पुलिस और अधिकारियों के सामने अंजाम देता हैं और किसी को इसकी भनक तक नहीं पड़ती।

रिपोर्ट- तिलक कुमार 

Continue Reading

featured

बलिया स्वास्थ्य विभाग मे 152 फर्जी नियुक्तियों की जांच जारी, सिर्फ 141 कर्मचारी ही बता पाए दस्तावेज

Published

on

बलिया के स्वास्थ्य विभाग में 152 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की फर्जी नियुक्ति का मामला उजागर होने के बाद एक्शन लिया गया है। सिटी मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में गठित टीम मामले की बारीकी से जांच कर रही है। इस जांच में सिर्फ 141 कर्मचारियों ही अपना मूल डॉक्यूमेंट और उसकी फोटो कॉपी जांच कमेटी के सामने प्रस्तुत कर पाए।

जबकि साल 2009 से 2017  तक सी.एच.सी. और पी.एच.सी. मिलाकर कुल 352 चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की नियुक्ति की गई थी। जिसमें से 152 नियुक्त कर्मचारियों की फर्जी नियुक्ति किए जाने की शिकायत शासन से की गई थी। इसलिए अभी 152 नियुक्तियों को ही टारगेट रखकर जांच की जा रही है। इसके बाद शेष नियुक्तियों की जांच की जाएगी।

बता दें कि वर्ष 2009 से 2017 के बीच स्वास्थ महकमे में 352 चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को नियुक्ति दी गयी थी। जिसे फर्जी बताते हुए शासन से शिकायत की गई। जिसके चलते सभी कर्मचारी नियुक्ति से संबंधित सभी मूल दस्तावेजों के साथ सीएमओ कार्यालय पर जांच के लिए जांच कमेटी के समक्ष उपस्थित होकर अपने डॉक्यूमेंट्स जमा करने पहुंचे हैं।

जांच टीम में शामिल सिटी मजिस्ट्रेट का कहना है कि  2009 से 2017 के बीच चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की नियुक्ति के फर्जी होने की शिकायत शासन स्तर पर की गई है कि यह जो नियुक्तियां हैं फर्जी हैं। इस संबंध में हम लोग टीम गठित करके जांच हेतु यहां पर एकत्रित हुए थे सभी पीएचसी सीएचसी पर नियुक्त वार्ड, बॉय स्वीपर चौकीदार आदि पदों पर नियुक्त सभी कर्मचारी लोग आए थे। अभी 141 कर्मचारियों ने ही अपने डॉक्यूमेंट्स जमा कराए हैं।

Continue Reading

featured

Ballia- बांसडीह में डूबते विकास की तस्वीर! चर्चित समाजसेवी ने जलभराव में खड़े होकर किया प्रदर्शन

Published

on

बलिया। बलिया की बांसडीह विधानसभा से डूबते विकास की तस्वीर सामने आई है। यहां की सड़कें पूरी तरह गड्ढों में तब्दील हो गई हैं। जिनमें घुटनों तक पानी भरा रहता है। सड़कों की इस बदतर हालत पर अब लोगों का आक्रोश फूट पड़ा है। पूर्वांचल के चर्चित समाजसेवी पत्रकार ब्रज भूषण दूबे जब सुखपुरा चौराहे से गुजरे तो उन्होंने देखा कि सड़क के भयंकर गड्ढे में गाड़ियां फंसी हैं, लोग चोटिल हो रहे हैं। यह सब दृश्य देखकर उन्होंने वहीं मोर्चा खोल दिया।

वह सड़क के जलजमाव के बीच घुटने बराबर गड्ढे में घुस गए और अपनी नाराजगी जताते हुए सांसद रवींद्र कुशवाहा, विधायक केतकी सिंह, डीएम व सीडीओ के नाम लिखी तख्ती जलाकर विरोध किया। उन्होंने कहा कि अब तक गंभीर रूप से कई दर्जन लोग चोटिल हो चुके हैं। सत्ता अच्छी सड़कों का भले ही दावा क्यों न करे, लेकिन जमीन पर बहुत भयावह स्थिति है। सबसे खास बात यह है कि कमियां दिखाने के बाद भी इन्हें समस्याओं का संज्ञान नहीं होता।

उन्होंने खराब सड़कों को लेकर विपक्ष को भी आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी समस्या है, पर विपक्ष अपने धर्म का पालन नहीं कर रहा है। कारण यह कि उनके समय में भी सड़कों की हालत ऐसी ही थी। उन्होंने क्षेत्रीय विधायक केतकी सिंह, क्षेत्रीय सांसद रविंद्र कुशवाहा के साथ बलिया के जिलाधिकारी मुख्य विकास अधिकारी और विपक्षी पार्टी के नेताओं को भी जमकर ललकारा।

हैरानी की बात यह है कि विधानसभा क्षेत्र में प्रदेश के अल्पसंख्यक मंत्री दानिश आजाद अंसारी का भी घर है। लेकिन फिर भी यहां की सड़कों की हालत दयनीय है। ऐसे में समाजसेवी ने कहा कि हम फोकट में अच्छी सड़कें नहीं मांग रहे हैं हम सड़कों का टैक्स देते हैं और अच्छी सड़कों पर चलना हमारा मौलिक अधिकार है। उन्होंने बलिया के जिला प्रशासन को एक सप्ताह का समय दिया। उनका कहना है कि अगर फिर भी सड़कों की स्थिति में सुधार नहीं हुआ तो जन आंदोलन किया जाएगा।

कौन हैं ब्रजभूषण दुबे ?- ब्रजभूषण दुबे बलिया के पड़ोसी जिले गाजीपुर रहने वाले हैं । चर्चित यूट्यूबर होने के साथ- साथ सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं। हाल ही में  ब्रजभूषण दुबे को जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा की उपस्थिति में श्रीनगर में श्री शारदा शताब्दी सम्मान से नवाजा गया था। ब्रज भूषण दुबे द्वारा चलाए जा रहे रक्तदान, नेत्रदान, देहदान के अलावा विविध सामाजिक क्षेत्रों एवं भ्रष्टाचार उन्मूलन जैसे उत्कृष्ट कार्य की सराहना होती रहती हैं। ब्रजभूषण दुबे के यूट्यूब  पर विडिओ के लाखों – लाखों में व्यू जाते हैं।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!