Connect with us

बांसडीह

बलिया – उभांव थाने के प्रभारी निरीक्षक ज्ञानेश्वर मिश्र का हुआ ट्रांसफर

Published

on

बलिया। उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनाव 2022 के मद्देनजर लगातार प्रशासनिक सर्जरी की जा रही है। पुलिस विभाग में भी लगातार तबादले किए जा रहे हैं। जहां अब प्रदेश के विभिन्न जिलों के 29 पुलिस निरीक्षकों के तबादले कर दिए गए हैं। इस सूची में बलिया जिले से अकेले ज्ञानेश्वर मिश्र का नाम शामिल है। उभांव थाने के प्रभारी निरीक्षक ज्ञानेश्वर मिश्र को प्रयागराज जोन के लिए ट्रांसफर कर दिया गया है। चुनाव से पहले पुलिस विभाग में अदला-बदली को काफी अहम माना जा रहा हैं।

बता दें, आगामी विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर चुनाव आयोग के निर्देश पर अपर पुलिस महानिदेशक स्थापना, लखनऊ के अपर पुलिस अधीक्षक राहुल मिश्र की ओर से शुक्रवार को प्रदेश के विभिन्न जिलों के 29 निरीक्षकों की ट्रांसफर सूची जारी की गई है। ट्रांसफर सूची में बलिया से सिर्फ ज्ञानेश्वर मिश्र का नाम है।

इससे पहले भी चुनाव के मद्देनजर प्रशासनिक सर्जरी की जा चुकी है। हालही में बांसडीह तहसील में SDM की नियुक्ति की है। और अब ज्ञानेश्वर मिश्र का तबादला कर दिया गया है। उन्हें प्रयागराज जोन में ट्रांसफर किया गया है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बांसडीह

बलिया में हुई ये मौत बनती जा रही है मिस्ट्री, दुर्घटना या हत्या?

Published

on

बलिया में पिछले दिनों हुई एक युवक की मौत का मामला धीरे-धीरे रहस्य बनता जा रहा है। बांसडीह रोड थाना क्षेत्र के बलीपुर गांव में गत गुरुवार को एक गड्ढे में एक लाश मिली। गड्ढे में लाश पड़े होने की सूचना पुलिस को दी गई। लाश की पहचान दीपक पांडेय के तौर पर हुई थी। पहले इसे एक दुर्घटना में हुआ मौत समझा जा रहा था। लेकिन अब मृतक के पिता की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है।

मृतक के पिता बालेश्वर पांडेय की तहरीर के आधार पर अज्ञात लोगों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। शनिवार की देर रात इस मामले में मुकदमा लिखा गया है। थाना प्रभारी मंटू राम ने बताया है कि इस मामले में अज्ञात लोगों के विरुद्ध हत्या का मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी गई है। बलिया के एसपी राजकरन नय्यर खुद इस मामले में मृतक के परिजनों से पूछताछ कर चुके हैं।

बता दें कि गुरुवार को बलीपुर के शेर मार्ग के किनारे एक गड्ढे में दीपक पांडेय का शव मिला था। उस वक्त दीपक की मौत एक दर्घटना मानी जा रही थी। बताया जा रहा था कि दीपक पांडेय की मानसिक हालत ठीक नहीं थी। लेकिन पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद स्थिति बदल गई। पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि दीपक की मौत में पानी डूबने से नहीं हुई थी।

Continue Reading

बांसडीह

बलिया में सुभासपा को झटका, पूर्व मंत्री के पौत्र पुनीत पाठक कांग्रेस में होंगे शामिल

Published

on

बलिया में इन दिनों सियासी उलटफेर का दौर चल रहा है। नेता एक पार्टी से दूसरी पार्टी का झंडा बदल रहे हैं। 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले सभी नेताओं और राजनीतिक दलों की कवायद अपने हक में सियासी गोटी बैठाने की है। खबर है कि आने वाले दिनों में बलिया के बांसडीह से सुहेलदेव समाज पार्टी के नेता रहे पुनीत पाठक कांग्रेस में शामिल होने वाले हैं।

पुनीत पाठक ने बुधवार यानी आज सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के सभी पदों से त्यागपत्र दे दिया है। पुनीत पाठक ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा है कि “सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के सभी पदों से तत्काल रूप से त्यागपत्र दे रहा हूं। पिछले सालों में पार्टी कार्यकर्ताओं और शीर्ष नेतृत्व श्री ओमप्रकाश राजभर, श्री अरविंद राजभर तथा अरुण राजभर द्वारा दिए गए सम्मान और प्रेम का आभारी रहूंगा।”

उन्होंने सुभासपा छोड़ने की वजह बताते हुए लिखा है कि “कुछ मुद्दों पर असहमति को देखते हुए अब आगे बढ़ने का समय आ गया है।” बलिया खबर के साथ बातचीत में पुनीत पाठक ने कहा कि “हम आने वाले 26 नवंबर को कांग्रेस ज्वाइन करेंगे। लखनऊ में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मौजूदगी में हम कांग्रेस में शामिल होंगे।”

पुनीत पाठक ने बताया कि लखनऊ में वो अपने समर्थकों के साथ कांग्रेस का हाथ थामेंगे। कांग्रेस की ओर से क्या जिम्मेदारी मिलेगी इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि इस बारे में अभी कोई चर्चा नहीं हुई है। लेकिन जो भी जिम्मेदारी कांग्रेस पार्टी हमे सौंपेगी उसे निभाने के लिए तैयार हैं।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के विधानसभा का चुनाव मुहाने पर आ चुका है। कांग्रेस युवाओं को अपने साथ जोड़ने की कोशिश में लगी है। पुनीत पाठक उसी कोशिश के परिणाम हैं। बलिया में सात विधानसभा सीटें हैं। फिलहाल एक भी सीट पर कांग्रेस का विधायक नहीं है। जिले में पार्टी का संगठन खड़ा करने की जुगत चल रही है। देखना होगा कि पुनीत पाठक को बलिया में किस भूमिका में कांग्रेस सामने लाती है।

बता दें कि पुनीत पाठक दिग्गज कांग्रेसी नेता रहे बच्चा पाठक के पौत्र हैं। बच्चा पाठक वही कांग्रेसी नेता थे जो 1977 में कांग्रेस विरोधी लहर में भी बलिया से चुनाव जीत गए थे। बच्चा पाठक बांसडीह विधानसभा सीट से सात बार विधायक रह चुके थे। साथ उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की सरकार रहते हुए दो बार मंत्री भी बनाए गए थे। अब उनके पौत्र कांग्रेस में आ रहे हैं।

Continue Reading

featured

बलिया – Air Force जवान का हुआ अंतिम संस्कार, बिलखते परिवार का दुख बांटने पहुंचे एएसपी

Published

on

बलिया का बांसडीह आज शोक में डूबा है। कस्बे के एयरफोर्स जवान विवेक गुप्ता की करंट की जद में आने से मौत के बाद महावीर घाट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। केवल 19 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कहने वाले विवेक की याद में पूरा नगर रो पड़ा।

जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद जवान का शव घाट पर पहुंचा। सैंकड़ों की संख्या में लोग जुटे। एयरफोर्स के जवानों की मौजूदगी में पूरे सम्मान के साथ विवेक का अंतिम संस्कार किया गया। जवानों ने अपने साथ को गार्ड ऑफ ऑनर दिया।जवान के निधन के बाद से माता-पिता और बहनों का रो-रोकर बुरा हाल है। ऐसे में अपर पुलिस अधीक्षक विजय त्रिपाठी जवान के परिवार को सांत्वना देने पहुंचे। उन्होंने जवान के परिवार से मुलाकात किया उनका दुख-दर्द बांटा। उन्होंने विभागीय एव प्रशानिक मदद के लि उच्चाधिकारियों को पत्र लिखकर मदद का आश्वासन दिया है।

क्षेत्राधिकारी प्रीति त्रिपाठी ने भी परिवार को सांत्वना दिया। विवेक की बहन श्रेया व ज्योति से कहा कि किसी भी जरूरत के वक्त मुझे याद कीजियेगा, मैं आपकी बड़ी बहन जैसी हूं। कोतवाल श्रीधर पाण्डेय ने भी परिवार को सांत्वना दिया। इस मौके पर डॉ कुमार विनोद, हरिकृष्ण वर्मा, संतोष गुप्ता, धीरेन्द्र बहादुर सिंह, शम्भु नाथ सोनी, भाजपा नेत्री रंजना सिंह, व्यापार मण्डल अध्यक्ष विजय कुमार गुल्लर पहुंचे जिन्होंने जवान के परिवार को ढांढस बंधाया।गौरतलब है विवेक बचपन से ही पढ़ने में होशियार थे। उन्होंने मातृभूमि की सेवा करने सेना का उच्चाधिकारी बनने का सपना देखा था। लेकिन बहुत कम उम्र में ही उनकी मौत हो गई। जवान अपने परिवार का इकलौता सहारा थे। पिता विनोद गुप्ता बीमारी से पीड़ित हैं। उनका इलाज कमांड हॉस्पिटल दिल्ली में चल रहा था। दो बहनें कक्षा ग्यारह में अध्ययनरत है। मां विनीता गुप्ता की हालत काफी खराब है। विवेक के जाने के बाद परिवार का अब कोई सहारा या देखभाल करने वाला नहीं है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!