Connect with us

बलिया

काशी-मथुरा पर बलिया विधायकों की बयानबाजी शुरू, अपने क्षेत्र पर कब देंगे ध्यान?

Published

on

बलिया से आने वाले दो भारतीय जनता पार्टी के विधायक उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री पद पर विराजमान हैं। बलिया सदर से विधायक आनंद स्वरूप शुक्ला ग्राम्य विकास मंत्रालय के राज्यमंत्री हैं। तो वहीं फेफना से विधायक उपेंद्र तिवारी पंचायती राज व खेल राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) हैं। दोनों विधायक अक्सर अपनी बयानबाजी को लेकर सुर्खियों में बने रहते हैं। एक बार फिर दोनों विधायकों ने अपने बयान से खबर बना दी है।

आनंद स्वरूप शुक्ला और उपेंद्र तिवारी को इन दिनों मथुरा की चिंता सता रही है। अमर उजाला की एक खबर के मुताबिक मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने कहा है कि “मुस्लिम समुदाय को आगे आकर मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मभूमि पर ‘सफेद भवन’ हिंदुओं को सौंप देना चाहिए। एक समय आएगा जब मथुरा में हर हिंदू को चोट पहुंचाने वाले सफेद ढांचे को अदालत की मदद से हटा दिया जाएगा।”

उन्होंने आगे कहा कि “भारत के मुस्लिम समुदाय को यह मानना होगा कि राम और कृष्ण उनके पूर्वज थे। बाबर, अकबर और औरंगजेब द्वारा बनाई गई किसी भी इमारत को खुद से न जोड़ें, क्योंकि वह भारत में लूटपाट और हमला करने आए थे। राम मंदिर का समाधान भी कोर्ट ने किया था। वहीं काशी और मथुरा के ये सफेद ढांचे हिंदुओं की आस्था को आहत करते हैं।”

दूसरी ओर फेफना से विधायक और मंत्री उपेंद्र तिवारी ने कहा है कि “मथुरा ही नहीं पूरे उत्तर प्रदेश व देश में जहां-जहां समस्या उनका समाधान करना हमारे शीर्ष नेतृत्व की जिम्मेदारी है। मथुरा कृष्ण जन्मभूमि मंदिर का निर्माण वहीं कराया जाएगा, जहां भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था।”

आनंद स्वरूप शुक्ला जिस सदर विधानसभा सीट से विधायक हैं उसके अंतर्गत एक काजीपुरा क्षेत्र आता है। काजीपुरा में पिछले छह-सात महीनों से जल जमाव हुआ है। हर रोज़ 20-25 वाहनों के दुर्घटना ग्रस्त होने की खबर आ रही है। काजीपुरा के लोग दर्जनों ज्ञापन दे चुके हैं लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। ऐसे में आनंद स्वरूप शुक्ला को काशी-मथुरा की चिंता त्याग कर अपने क्षेत्र की जानलेवा समस्याओं पर ध्यान देना चाहिए।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बलिया

बलियाः यूपी-बिहार के बीच बस संचालन ठप्प, भरौली पुल पर बना बैरियर है कारण

Published

on

बलियाः यूपी और बिहार के बीच बस चलाने की योजना दम तोड़ती हुई नजर आ रही है। परिवहन विभाग ने बड़ी तैयारी के साथ बसें चलाने की योजना तो बनाई लेकिन सफलता नहीं मिली। क्योंकि भरौली में गंगा नदी पर निर्मित पुल पर लगा लोहे का बैरियर बसों के संचालन में सबसे बड़ा रोड़ा है।

बता दें कि लोगों की सुविधा को देखते हुए 25 सितंबर 2020 को उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम और बिहार राज्य पथ परिवहन निगम के अफसरों के बीच बैठक हुई। इस बैठक में दोनों राज्यों के बीच बसों को संचालन का महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया। सूत्रों की मानें तो एक महीने के बाद 25 अक्टूबर 2020 को उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम की ओर से बसों की समय सारणी और आने-जाने वाले मार्ग का निर्धारण कर बिहार राज्य पथ परिवहन निगम को सौंप दिया गया।

इस योजना के तहत बलिया से बिहार के लिए 3 मार्गों का संचालय करने की योजना थी। जिसमें बलिया-बक्सर (बिहार) वाया फेफना, चितबड़ागांव भरौली, बलिया-छपरा वाया बैरिया और बलिया-पटना वाया बक्सर व आरा होते हुए संचालन तय किया गया। लेकिन इस पर अमल नहीं हो पाया और आज भी लोग बलिया-बक्सर और बलिया पटना के बीच बसों के चलने का इंताजर कर रहे हैं।

विभागीय अधिकारियों का कहना है कि बिहार के बक्सर और भरौली के बीच गंगा निर्मित वीर कुंवर सिंह सेतु पर लगी लोहे की बैरिकेडिंग के कारण संचालन रुका हुआ है। आज से करीब 8 साल पहले पुल पर बड़े वाहनों की आवाजाही को रोकने के लिए लोहे की बैरिकेडिंग लगा दी गई। इस संबंध में एआरएम राकेश श्रीवास्तव का कहना है कि बलिया-बक्सर और बलिया-पटना के बीच बस सेवा शुरू करने में भरौली के पास पुल पर लगा लोहे का बैरियर बाधा उत्पन्न कर रहा है। अगर बैरियर नहीं होता तो बस चलाने में कोई दिक्कत नहीं होती।

इसके अलावा बलिया से छपरा तक वाया बैरिया-मांझी होते हुए परिवहन निगम की ओर कुछ दिनों पहले बस सेवा शुरू की गई। हालांकि सवारी नहीं मिलने के बाद बसों का संचालन बंद हो गया। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि बस के खाली आने-जाने से राजस्व का नुकसान होने लगा।

बलिया से बक्सर की दूरी करीब 35 से 40 किमी है। हालांकि इतनी कम दूरी का किराया निजी वाहन चालक 100 से 120 रुपए तक लेते हैं। अगर इन बसों का संचालन शुरु हो जाए तो लोगों को काफी सुविधा मिलेगी।

Continue Reading

बलिया

बलियाः जिला अस्पताल में बाहरी चिकित्सक ने किया ऑपरेशन, वार्ड बॉय निलंबित

Published

on

बलिया के जिला अस्पताल में बाहरी चिकित्सक के द्वारा मरीज का ऑपरेशन करने के मामले में अस्पताल के वार्ड बॉय को निलंबित कर दिया गया है। इस गंभीर मामले में आरोपी निजी चिकित्सक और वार्ड बॉय पर एफआईआर सहित अन्य कार्रवाई की भी संस्तुति की गई है। जल्द ही दोनों पर एफआईआर दर्ज की जाएगी।

जानकारी के मुताबिक रेवती कस्बा निवासी सुनीता तिवारी के पैर में सुई चुभ गई थी। उन्होंने निजी चिकित्सक को दिखाया तो उसने ज़िला अस्पताल में ऑपरेशन की बात कही। इसके बाद महिला का ऑपरेशन किया गया लेकिन सुई नहीं निकली। इसके बाद आपरेशन कक्ष में सुई निकालने की कोशिश भी की थी, लेकिन सफलता नहीं मिली थी। मरीज को बड़ा ऑपरेशन करने के लिए और पैसे की मांग की थी।जिसके बाद परेशान परिजन तत्कालीन सीएमएस के पास पहुंचे और कोतवाली में तहरीर देने की भी बात कही थी।

मामले को लेकर टीम को जांच सौंपी गई। जिसके जांच में ओटी में तैनात वार्ड ब्वाय लालजी की संलिप्तता मिलने पर उसे निलंबित कर दिया गया है। साथ ही प्रकरण में आरोपी निजी चिकित्सक के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज कराने की तैयारी चल रही है। आरोपी रेवती कस्बे में क्लीनिक चलाता है। सीएमओ डॉ. नीरज पांडेय ने बताया कि जल्द एफआईआर की कार्रवाई कराई जाएगी।

Continue Reading

बलिया

बलिया में हैरान करने वाले आंकड़े, जिले में अनुसूचित जनजाति वर्ग का एक भी शख्स नहीं !

Published

on

उत्तरप्रदेश के बलिया जिले में हैरान करने वाली खबर सामने आई है। जहां पिछले 11 सालों में अनुसूचित जनजाति वर्ग के एक लाख 73 हजार 778 लोग गायब हो गए हैं। जिनका सरकारी दस्तावेज में कोई रिकॉर्ड नहीं है। जबकि साल 2011 की जनगणना के मुताबिक अनुसूचित जनजाति की आबादी एक लाख 73 हजार 778 थी। जो अब शून्य बताई जा रही है। तहसील मुख्यालयों से भेजी गई रिपोर्ट में यह बात सामने आई है। आखिर अनुसूचित जाति वर्ग के लोग कहां गए यह बताने वाला कोई नहीं है। तहसीलों की रिपोर्ट में खुलासा- दरअसल शासन के निर्देश पर जिला पंचायत राज अधिकारी ने सभी तहसील मुख्यालयों को पत्र भेजकर साल 2011 की जनगणना के हिसाब से जिले में अनुसूचित जनजाति की वर्तमान रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया था। सभी तहसील मुख्यालयों की ओर से डीपीआरओ को रिपोर्ट भेजी गई।

रिपोर्ट के अनुसार जिले में अनुसूचित जनजाति का एक भी परिवार या सदस्य नहीं है। जिससे बिरादरी के लोगों को लंबे समय से अनुसूचित जनजाति का प्रमाणपत्र लेने के लिए सड़क पर संघर्ष करना पड़ा है। इतना ही नहीं बीते पंचायत चुनाव में जाति प्रमाण पत्र के अभाव में बिरादरी के लोगों को चुनाव लड़ने से महरुम होना पड़ा। 2011 की जनगणना- 2011 में अनुसूचित जनजाति के कुल 1 लाख 73 हजार 778 लोग थे। इनमें गोंड जाति के कुल 1 लाख 38 हजार 942 और खरवार जाति के 34 हजार 836 लोग शामिल थे।

इनमें गोंड जाति के 39 हजार 576 पुरुष, 38 हजार 498 महिला और 60 हजार 868 बच्चे शामिल थे। इसी प्रकार खरवार जाति के 9 हजार 499 पुरुष, 9 हजार 587 महिला और 15 हजार 750 बच्चे थे। बलिया सदर तहतसीलदार सदानंद सरोज के मुताबिक साल 2011 की जनगणना को अब अनुसूचित जनजाति की श्रेणी में नहीं माना जा रहा है। क्योंकि ये जाति प्रमाणपत्र के लिए शासन के निर्देशों के अनुसार नहीं है। शासन की गाइडलाइन के मुताबिक अनुसूचित जनजाति का प्रमाणपत्र देने के लिए 1950 से पहले राष्ट्रपति की ओर से जारी शासनादेश होना चाहिए, जिसमें जाति के कॉलम में जाति लिखी हो या 1356 और 1356 फसली के साथ टीसी और शैक्षणिक प्रमाणपत्र, जिसमें जाति लिखी होनी चाहिए।

सियासत में उलझे जाति प्रमाण पत्र- गोगपा के प्रदेश प्रभारी अरविंद गोडवाना ने बताया कि 2017 से पहले जिले में गोंड और खरवार बिरादरी के लोगों को सुगमता से अनुसूचित जनजाति का प्रमाण पत्र जारी होता था, लेकिन सत्ता में भाजपा के आते ही रोक लगा दी गई और तमाम तरह के दस्तावेज मांगे जाने लगे। जबकि 2011 में सरकार ने ही जनगणना कराई गई थी, जिसमें जिले करीब पौने दो लाख लोग चिह्नित हुए थे। अब सरकारी नुमाइंदें ही सरकार के फैसले को गलत ठहरा रहे है। तभी तो जाति प्रमाण पत्र जारी करने में हीलाहवाली की जा रही है। जनप्रतिनिधियों ने शासन पर मड़ा दोष- भाजपा के अनुसूचित जनजाति प्रकोष्ठ जिला अध्यक्ष तारकेश्वर गोंड का कहन है कि योगी सरकार ने

गोंड और खरवार बिरादरी के वास्तविक लोगों को अनुसूचित जनजाति का जाति प्रमाण जारी करने के लिए समय-समय पर आदेश किए। लेकिन जिला प्रशासन ने इसमें बाधा उत्पन्न की, जिससे लोगों को जाति प्रमाण पत्र मिलने में दिक्कत हुई है। हालांकि अब शासन के निर्देश पर जिले की विभिन्न तहसीलों में जाति प्रमाण पत्र जारी किया जा रहा है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!