Connect with us

बलिया

किसानों के लिए जान भी देना पड़े तो पीछे नहीं हटूंगा: नारद राय

Published

on

बलिया डेस्क : समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री नारद राय ने बलिया विधानसभा के ग्राम सभा बसंतपुर में बोलते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश की सरकार और केंद्र की सरकार जन विरोधी नीतियों को लागू करने में अपने को गौरवान्वित महसूस करती है। लेकिन समाजवादी पार्टी उन नीतियों को जिसके कारण देश और प्रदेश का किसान नौजवान, गरीब प्रभावित होता है, उसका पुरजोर विरोध करती है।

किसान बिल का विरोध करते हुए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्देश पर जो किसान यात्रा निकाली गई और जिसमें पूरे प्रदेश में खासतौर पर बलिया विधानसभा में जो कार्यकर्ताओं में उत्साह दिखाई दिया और जो किसानों की तरफ से समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं की हौसला अफजाई की गई उसी से साबित हो गया कि प्रदेश की जनता भारतीय जनता पार्टी की सरकार से छुट्टी लेना चाहती प्रदेश की जनता भारतीय जनता पार्टी के मंसूबों को समझ लेने का

काम की है और यही कारण है कि आज पूरा समाज चाहे अगड़ा हो पिछड़ा हो चाहे अल्पसंख्यक हो दलित हो समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पर विश्वास जताने का काम किया है। कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए श्री राय ने कहा कि यह लंबी लड़ाई है और इस लड़ाई को जीतने के लिए जो भी कुर्बानी देनी होगी आपको और हमको उसके लिए तैयार रहना होगा।

सभा को संबोधित करते हुए विधानसभा के अध्यक्ष अजय यादव ने उपस्थित लोगों को भरोसा दिलाया कि हम सब लोग समाज में रहने वाले एक एक आदमी के दुख सुख में खड़ा रहने का काम करते हैं जब कहीं भी कोई उत्पीडऩ होता है चाहे किसी सामंती से हो या चाहे पुलिस से हो चाहे दिन में हो या रात में हो हम अपने नेताओं के सहयोग से डटकर के मुकाबला करते हैं और आजतक बलिया विधानसभा में भाजपा के लोग पुलिस से मनमाना काम नहीं करा पाते।

सभा को प्रमुख रूप से विश्राम बिंद, रमाशंकर बिंद, भरत यादव, हृदय यादव राजकुमार पांडे कृष्णा यादव, अजीत यादव ने संबोधित किया। विधानसभा सभा की अध्यक्षता विधानसभा अध्यक्ष अजय यादव ने की एवं संचालन राजकुमार पांडेय ने किया।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बलिया

बलिया- मुख्यमंत्री के साथ कोर कमेटी की बैठक में मेडिकल कालेज की मांग

Published

on

बलिया। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज बलिया जनपद में स्वास्थ्य सुविधाओं एवं विकास कार्यों का स्थलीय निरीक्षण किया। वैक्सीनेशन अभियान का जायजा लेने के लिए उन्होंने ट्रामा सेंटर में चल रहे वैक्सीनेशन सेंटर का भी निरीक्षण किया। इसके बाद कलेक्ट्रेट सभागार में विकास कार्यक्रमों, कानून व्यवस्था एवं कोविड नियंत्रण की समीक्षा बैठक की और पुलिस-प्रशासन के कार्याें पर संतोष व्यक्त किया। इस दौरान मुख्यमंत्री के साथ हुई कोर

कमेटी की बैठक में जिले जनप्रतिनिधियों ने अपने-अपने क्षेत्र में योजनाओं को लेकर बात रखी।इसमें सभी ने गेहूं क्रय केंद्र की समस्या का प्रमुखता से रखा। मुख्यमंत्री के सामने गंगा पर बने जनेश्वर मिश्र सेतु का चालू करने की मांग की मांग की। जिले में मेडिकल कालेज बनाने, बैरिया में रोडवेज डिपो खोलने समेत  ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सुविधा बढ़ाने के मुद्दे को रखा। मुख्यमंत्री ने जनप्रतिनिधियों की मांगों को पूरा करने का आश्वान दिया।

जिलाध्यक्ष जय प्रकाश साहू ने बताया कि जल्द ही जिले में कई योजनाएं संचालित होगी। वहीँ बेलथारा रोड विधायक धनंजय कन्नौजिया ने बलिया में मेडिकल कालेज की चर्चा के दौरान इब्राहिमपट्टी में मौजूद पूर्व पीएम चंद्रशेखर सिंह के परिवार के देखरेख में संचालित ट्रस्ट इब्राहिमपट्टी अस्पताल भवन को ही मेडिकल कालेज के रुप में विकसित करने का प्रस्ताव रखा।

मुख्यमंत्री ने जयप्रकाशनगर व इब्राहिमपट्टी में स्थित अस्पताल को अपग्रेड कर वहां स्वास्थ्य सुविधाओं को बेहतर करने की भी बात कही। उन्होंने बताया कि जिन विभागों में किन्हीं कारणों से कार्य लम्बित है तो सम्बन्धित विभागाध्यक्ष तत्काल अपने मुख्यालय से सम्पर्क कर उनका समाधान करा

Continue Reading

बलिया

बलिया डीएम ने इस बड़े गैंग लीडर की अवैध संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिया

Published

on

बलिया डीएम ने गैंग लीडर विशम्भर यादव द्वारा अर्जित 2 करोड़ 13 लाख 14 हजार की अवैध संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिया है। प्रभारी निरीक्षक गड़वार बलिया की तहरीर और पुलिस अधीक्षक बलिया की संस्तुति पर गैंगलीडर विशम्भर यादव की संपत्ति को कुर्क करने का आदेश दिया है। विशम्भर टकरसन गांव का रहने वाला है। इसका बलिया में एक संगठित गिरोह है। विशम्भर द्वारा आर्थिक, भौतिक, दुनियाबी लाभ के लिए संगठित तरीके से हत्या, हत्या के प्रयास, लूट, डकैती और अन्य अपराधों को अंजाम दे चुका है।

विशम्भर का लोगों में डर इस कदर है कि कोई भी व्यक्ति उसके खिलाफ आवाज उठाने की हिम्मत नही करता। यही नहीं विशम्भर ने अपनी आपराधिक गतिविधियों के बल पर अवैध तरिके से चल और अचल सम्पत्तियां अर्जित कर रखी हैं। अभियुक्त के विरुद्ध गैंगैस्टर एक्ट अपराध के अतिरिक्त बलिया के विभिन्न थानों व जनपद लखनऊ सहित अन्य जिलों में कुल 14 मामले दर्ज हैं। विशम्भर के विधिक तरीके से आय का कोई ठोस स्त्रोत नहीं है।

इसके द्वारा 2 करोड़ 13 लाख 14 हजार की चल-अचल सम्पत्तियाँ अवैधानिक ढंग से बनाई गई है। कुछ संम्पतियाँ विशम्भर ने शिवनारायण और नीतू के नाम से अर्जित की हैं। पुलिस ने जांच में उसके आय के स्त्रोत के कानून सम्मत नहीं पाया। जिलाधिकारी बलिया ने उ0प्र0 गिरोहबन्द व समाजविरोधी क्रियाकलाप (निवारण) अधिनियम 1986 की धारा 14(1) के अन्तर्गत उक्त सम्पत्ति को कुर्क करने का आदेश दिया है।

Continue Reading

featured

बलिया- पांच गांवों को जोड़ने वाला पुल अभी भी अधूरा, विधायक पर लगा बड़ा आरोप

Published

on

बलिया के रेवती पचरुखिया मार्ग पर केवा पियरौटा गांव के नजदीक पूल का निर्माण पिछले दो महीने से चल रहा है। लेकिन बरसात की शुरुआत होने के वजह से पूल का निर्माण कार्य रूक गया है। स्थानीय लोग इससे बहुत ज़्यादा परेशान हैं। ठेकेदार ने अस्थायी पूल के साइड में कच्ची सड़क बनवाया था, लेकिन ये भी बारिश के पानी से डूब गया है। केवा, कंचनपुर और पियरौटा गांव का सपर्क टूट गया है। इस क्षेत्र में 5 पुलों को तोड़ दिया गया है जिससे कि केवा, छेरडीह, चौबेछपरा, कंचनपुर, पियरौटा, बलिहार रामपुर, दीघार का एक दूसरे से संपर्क टूट गया है।

गावं वालों का कहना है कि इस विषय में विधायक सुरेंद्र सिंह को बताया गया है लेकिन उनको कोई फर्क नहीं पड़ता है। गाँव वालों ने विधायक सुरेंद्र सिंह के ऊपर घूस लेने का आरोप तक लगाया है। गावं वालों का आरोप है कि “विधायक जी सत्तासुख भोगने में मगन हैं। पांच गांव की जनता परेशानी में जी रही है, आने-जाने का मार्ग नहीं है लेकिन जब वोट लेना होगा यही विधायक जी दौड़े आएंगे वोट मांगने।”

गांववालों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से निवेदन किया है कि गाँववालों की बरसात के इस मुश्किल दौर में मदद करें। वहीं प्रशासन पुल के बगल से ही अस्थायी सड़क या पुल का निर्माण करे, जिससे गांववाले अपने रोजमर्रा की ज़िंदगी को आसानी से कर पाएं। गांववालों ने अपनी दुश्वारी बताते हुए कहा कि, सारे गाव का संपर्क टूटने से बच्चों की पढ़ाई भी बंद हो गई है। ‘लोगों को राशन पानी लाने में भी दिक्कत हो रही है। यहाँ तक की एम्बुलेंस नहीं आने की वजह से कई की जान भी जा चुकी है।

Continue Reading

TRENDING STORIES