Connect with us

उत्तर प्रदेश

हैलो मैं गृह विभाग से बोल रहा हूं, आप सस्पेंड हो जाआगे, जब इस थाने के हेड कांस्टेबल को फोन से मिली धमकी!

Published

on

बलिया डेस्क. हैलो जनार्दन यादव बोल रहे हैं…., जी सर, आपको क्या प्रॉब्लम है श्रीराम यादव जो बारजा निकाल रहे हैं. बता दे रहा हूं लास्ट स्टेज चल रहा है आप सस्पेंड हो जाएंगे जनार्दन जी. जी हां कुछ इसी अंदाज में भीमपुरा थाना क्षेत्र के ठकुरहीं चरौवा गांव निवासी आजमगढ़ जिले के बिलरियागंज थाने में तैनात हेड कांस्टेबिल जनार्दन यादव को किसी ने गृह विभाग से फोन कर नौकरी से सस्पेंड करने की धमकी दी है.

मामले में पीड़ित कांस्टेबिल जनार्दन यादव ने कॉल की रिकार्डिंग थानाध्यक्ष से लगायत एसपी व डीआईजी तक भेज दी है तथा न्याय की गुहार लगाई है, लेकिन अफसोस उप्र पुलिस के इस कांस्टेबिल की अभी तक सुनवाई नहीं हुई है, जिससे कांस्टेबिल जनार्दन यादव खुदको उपेक्षित महसूस कर रहा है व पुलिस की नौकरी करने के कारण खुदको कोस रहा है.

भीमपुरा थाना क्षेत्र ठकुरहीं चरौवा गांव निवासी जनार्दन यादव आज से 20 साल पहले 2001 में सड़क निर्माण के लिए अपने सहन से लगभग चार फीट रास्ता छोड़ा था उस वक्त इस रास्ते से सिर्फ जनार्दन यादव के ही परिवार के लोग आते-जाते थे. बाद में 2005 में इसी सड़क को जनार्दन यादव ने सार्वजनिक रास्ते के लिए सहमति दे दी थी.

जिसके बाद कच्ची सड़क आरसीसी में तब्दील हो गया. इसके बाद 2011 में जनार्दन यादव के ही पड़ोसी श्रीराम यादव सड़क से सटाकर मकान बना लिया. मामला यहां तक तो सब कुछ ठीक था, इधर अचानक श्रीराम यादव के मन में क्या आया कि अचानक बीते 14 मई को वे मकान के आगे बारजा निकालने की कोशिश की.

इस पर जनार्दन यादव के पुत्र अजय यादव ने डायल 112 नंबर पर कॉल किया, इसके बाद मामले की शिकायत एसडीएम बेल्थरारोड से की. जिस पर बेल्थरारोड ने तहसीलदार के साथ-साथ थानाध्यक्ष को आदेशित किया कि सड़क के उपर अवैध निर्माण नहीं होना चाहिए तत्काल इसे रोका जाए.

इसके बाद जनार्दन यादव का आरोप है केि उनको मोबाइल  नंबर से  कॉल करके गृह विभाग से उन्हें नौकरी से सस्पेंड करने की धमकी दी गयी. अभी मामले शिकायत चल ही रही थी कि आरोप है कि श्रीराम यादव ने पुलिस को मिलाकर आखिरकार बीते 21 मई को बारजा निकाल कर अवैध निर्माण करा ही लिया.

आरोप यह भी है कि श्रीराम यादव ने आठ वर्ष पुरानी बिना बारजे की मकान में सड़क की ओर बारजा निकाला है. जनार्दन यादव का कहना है कि उन्हें अब गृह विभाग से फोन पर सस्पेंड करने की धमकी दी जा रही है. कहा जा रहा है कि आपका मकान रोड के इस पार है और श्रीराम का मकान रोड के उस पार, वे कुछ भी करें आपको क्या प्राब्लम है, ज्यादा विरोध मत कीजिए वरना सस्पेंड हो जाएंगे.

वहीँ जब इस मामले को लेकर  डीआईजी सुभाषचंद्र दूबे से बात की गई तो उन्होंने कहा कि मामला मेरे संज्ञान में नहीं है, यदि हेड कांस्टेबिल के साथ इस तरह का व्यवहार हुआ है और उन्हें सस्पेंड की धमकी मिली है तो मामले की जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

Continue Reading
2 Comments

2 Comments

  1. R.LAKHAN

    June 4, 2020 at 4:54 pm

    http://balliakhabar.com/hello-i-am-speaking-from-the-home-department-you-will-be-suspended-when-the-head-constable-of-this-police-station-receives-a-threat-from-the-phone/

    खबर देख कर यह लग रहा है कि ये वही जनार्दन यादव हैं जिनके बारे में निम्नलिखित शिकायत है, ग्रामसभा के जमीन (जिसे ये अपना सहन बता रहे हैं) पर अपने पद का दुरुपयोग करके अवैध कब्जा के संबंध में ।

    महोदय,
    ग्राम – ठकुरही, चरौंवा, थाना – भीमपुरा, जनपद बलिया के लिए संबंधित अधिकारी को अवगत कराना है कि मुख्य रास्ते के बगल में पश्चिम ओर ग्रामसभा की सार्वजनिक भूमि नई परती के नाम से गांव के सार्वजनिक प्रयोग एवं पौधारोपण के लिए चिन्हित है जिसका खतौनी क्र० सं० 1056, खसरा सं० 1270 और क्षेत्रफल हे० है । ज्ञात हो कि इस सार्वजनिक भूमि पर श्री जनार्दन यादव पुत्र स्व० मुसाफिर यादव, धर्मेन्द्र यादव पुत्र स्व० राजेन्द्र प्रसाद यादव एवं उनके परिवार वालों ने अवैध तरीके से कब्जा किया हुआ है । जिसकी वजह से गांव में सार्वजनिक कार्यक्रम जैसे शादी-विवाह, धार्मिक कार्यक्रम, खेलकूद, खलिहान, सभास्थल आदि का उचित व्यवस्था नहीं हो पाया है।
    जबकि उक्त परिवार सभी तरीके से सम्पन्न एवं पर्याप्त कृषि भूमि के मालिक हैं। श्री जनार्दन यादव पुत्र स्व मुसाफिर यादव तथा इनके चचेरे भाई अशोक कुमार सिंह पुत्र स्व राजेन्द्र प्रसाद सिंह उत्तर प्रदेश पुलिस में कार्यरत हैं । श्री जनार्दन यादव, थाना बिलरियागंज, जनपद आजमगढ़ में हेड कांस्टेबल के पद पर कार्यरत हैं तथा अशोक कुमार सिंह, 48वीं बटालियन पीएसी, जनपद सोनभद्र में चालक के पद पर नियुक्त है। इन्हे नियम कानून का बखूबी ज्ञान होने के बावजूद पुलिस विभाग में होने की विभागीय पहुंच की धौंस दिखाकर उपरोक्त ग्राम समाज की भूमि पर अवैध कब्जा करके कुछ हिस्से पर पक्की मकान भी बना ली है। इतना ही नहीं, गाँव के सार्वजनिक रास्ते पर नाले का पानी बहाना व पशुओं के खाने की व्यवस्था इत्यादि तरीकों से ये लोग सामान्य जनजीवन को जटिल बनाये हुए हैं ।
    अतः श्रीमान महोदय से अनुरोध है कि उपरोक्त स्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए ग्राम समाज की सार्वजनिक भूमि (खसरा सं० 1270) पर अवैध कब्जा करने हेतु अतिक्रमणकारियों के विरुद्ध नियमानुसार आवश्यक कार्यवाही करते हुए इनके द्वारा कब्जा की हुई जमीन को सार्वजनिक प्रयोग के लिए अतिशीघ्र मुक्त कराने एवं उक्त कृत हेतु इनके विरुद्ध विभागीय कार्यवाही करने का कष्ट करें ।

    आपका

    • बलिया डेस्क

      June 4, 2020 at 7:11 pm

      you can call me on my phone nubber 7003391372 or 953204696111. I want to talk with you about news and janardan yadav

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

featured

गों’ड जा’ति को लेकर छि’ड़ी बहस ने पकड़ा तूल, अब इलाहाबाद HC ने ये कहा

Published

on

बलिया : गोंड जा’ति को लेकर छिड़ी बहस तूल पकड़ती जा रही है। गोंड जाति एस’टी या ओबी’सी वर्ग के अंतर्गत आती है, इसको लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार और अन्य विप’क्षियों से जवाब तलब किया है। न्यायमूर्ति रोहित रंजन अग्रवाल ने उमाशंकर राम की याचिका पर सुनवाई करते हुए मामले में चार हफ़्ते के अंदर जवाब देने का आदेश दिया है। दरअसल, उमाशंकर राम ने अपनी याचिका में मंडलीय जा’ति समीक्षा समिति के 29 जून 2020 के उस आदेश को चुनौती दी है, जिसमें गोंड को अन्य पिछ’ड़ा वर्ग का बताया गया है।

उमाशंकर ने अपनी याचिका में गोंड को अनुसूचित जनजाति का बताया है। बता दें कि याची के खिलाफ बलिया के सुभाष चंद्र तिवारी ने जिला स्तरीय जाति समीक्षा समिति में शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायतकर्ता ने इस संबंध में एक दीवानी मुक़दमा भी दाखिल किया, जो अभी विचाराधीन है। ज़िला स्तरीय समिति ने याची के जाति प्रमाणपत्र को सही करार देते हुए गोंड को अनुसूचित जनजाति का बताया है।

वहीं सुभाष चंद्र तिवारी के वकील निर्भय भारती गिरि ने दावा किया था कि बलिया में अनुसूचित जन’जा’ति नहीं है। उनका कहना था कि वास्तव में यह गोंड यानी भुज’वां जा’ति के हैं, जो ओबीसी में आती है। ज़िला स्तरीय समिति के आदेश को मंडलीय समिति में चुनौती दी गई। जिसके बाद मंडलीय समिति ने जिला समिति के निर्णय को गलत करार देते हुए रद्द कर दिया और कहा कि याची गोंड यानी भुजवां जा’ति का है, जो ओबीसी में दर्ज है।

कोर्ट ने मामले को विचारणीय मानते हुए प्रदेश सरकार और सुभाष चंद्र तिवारी के वकील को चार हफ़्ते में जवाब दाख़िल करने का निर्देश दिया है। ग़ौरतलब है कि इससे पहले सडीएम रहे शयाम बाबू की नियुक्ति उनकी गोंड जाति की वजह से निरस्त कर दी गई थी। उन्होंने नियुक्ति के लिए लगाए गए प्रमाण पत्र में ख़ुद को अनुसूचित जनजाति का बताया था। जबकि बैरिया के तहसीलदार ने अपनी आख्या में श्याम बाबू को एसटी का नहीं माना।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

आदित्यनाथ की सरकार ने प्रदेश में रावण राज स्थापित कर दिया- स्वामी अभिषेक

Published

on

युवा चेतना के संरक्षक स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने शुक्रवार को अयोध्या में योगी सरकार पर निशाना साधा । अयोध्या में प्रेस को संबोधित करते हुए स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की उत्तर प्रदेश में रामराज स्थापित करते करते योगी आदित्यनाथ की सरकार ने रावण राज स्थापित कर दिया।

स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की 6 साल से अधिक समय से नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री हैं और 3 साल से अधिक समय से योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं ना तो गंगा साफ हुई और ना गौ रक्षा हेतु राष्ट्रीय क़ानून बना।स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की धन्यवाद है सुप्रीम कोर्ट का की प्रभु राम के जन्मस्थान पर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त हो गया नहीं तो भाजपा सरकार यह पुनीत कार्य भी नहीं करती।

स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की युवा चेतना उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने हेतु संघर्ष शुरू किया है जनता को युवा चेतना का सहयोग करना चाहिए।स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की लखनऊ में उपमुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा जी के भांजे और दामाद के साथ लूट की घटना हो गई तो फिर आम जनता के सुरक्षा की गारंटी कैसी समझी जाएगी।स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की धर्म आस्था का विषय है परंतु धर्म के नाम पर भाजपा राजनीति कर जनता को दिग्भ्रमित कर रही है।

स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की गाँव,गरीब,किसान,मजदूर और नौजवान की स्थिति बदत्तर हो गई है एसी स्थिति में जनता को एकजुट होकर युवा चेतना को मज़बूत करना होगा।स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी ने कहा की अपराधी-पुलिस गठबंधन की सरकार चल रही है सबों को एकजुट होकर 2022 में परिवर्तन हेतु संकल्पित होना होगा।

 

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम की तबियत बिगड़ी, मेदांता में हुए भर्ती

Published

on

लखनऊ। यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की तबियत शुक्रवार की शाम अचानक बिगड़ गई। आनन-फानन में उन्हें लखनऊ के मेदांता अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। फिलहाल डॉक्टरों की टीम मुलायम सिंह यादव के स्वास्थ्य की निगरानी कर रही है। मेदांता के डॉक्टरों के मुताबिक, मुलायम सिंह की हालत फिलहाल ठीक है। बता दें कि मुलायम सिंह माह भर पहले भी मेदांता में भर्ती हुए थे। उस वक्त उन्हें आंत में समस्या थी।

Continue Reading

Trending