Connect with us

बलिया

बलिया में सड़कें खस्ताहाल, गड्ढे बने जानलेवा, जान जोखिम में डाल कर सफर कर रहे लोग

Published

on

सरकार पूरे प्रदेश में सड़कों का जाल बिछाने के दावे करती हैं, लेकिन बलिया में सरकार के यह दावे पूरी तरह से फेल होते नजर आ रहे हैं। गांवों की बात तो छोड़िए, यहां शहरों के मुख्यमार्ग के हालात भी बदतर नजर आ रहे हैं।

शासन की लाख कोशिशों के बावजूद भी सड़कें गड्ढों से पटी हैं। लोग जान जोखिम में डालकर सफर करते हैं। 2017 में सरकार ने सड़कों को गड्ढा मुक्त करने का आदेश जारी किया था, लेकिन अधिकारियों की लापरवाही से आज तक सड़कों की मरम्मत नहीं हो पाई। कहीं मरम्मत हुई भी तो, कुछ ही दिनों में सड़कों दोबारा गड्ढों से पट गईं।

एचएच 31 यू तो जनपद का सबसे अहम मार्ग है। लेकिन यहां बलिया-बैरिया मार्ग पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया है। इससे बिहार ही नहीं बल्कि पूर्वात्तर राज्यों के वाहनों का आवागमन होता है लेकिन फिर भी यहां के हालात सुधरने का नाम नहीं ले रहे है। इसका खामियाजा इस मार्ग से सफर करने वाले राहगीरों को उठाना पड़ रहा है।

बलिया-गोरखपुर राजमार्ग पर चौकिया मोड़ से लेकर तेनुआ तक की सड़क के निर्माण को भी आधा-अधूरा ही छोड़ दिया गया। बिल्थरारोड क्षेत्र की सड़कें भी पूरी तरह जर्जर हो चुकी हैं। सदर, सिकन्दरपुर, रसड़ा व बांसडीह तहसील क्षेत्रों में भी सम्पर्क मार्गों का हाल बेहाल है। मरम्मत के लिये कुछ जगहों के लोग आंदोलन भी कर चुके हैं, हालांकि इसके बाद भी समस्या का समाधान नहीं हो सका है।

हालात यह हैं एचएच31 हादसों का घर बना हुआ है। आए दिन यहां पर सड़क हादसे होते हैं, जिसमें कईयों की जान जा चुकी है। करीब 2 महीने पहले भी फेफना के वैना के पास क्षतिग्रस्त सड़क के गड्ढें में ई-रिक्शा के पलट जाने से कांग्रेस नेता पवन चौबे की मौत हो गई। बैरिया क्षेत्र में वाहनों के दुर्घटनाग्रस्त होने का प्रमुख कारण खराब व जर्जर हो चुकी है। एनएच पर फेफना से भरौली के बीच मरम्मत के नाम पर एनएचआई की ओर से केवल चिप्पी या यूं कहें की पेबंद साटकर छोड़ दिया गया है। उक्त रास्ता अब भी खराब है तथा राहगीरों को आने-जाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बलिया

बलिया- स्कूलों में उगेंगी ताजी सब्जी, अब ऐसे बनेंगे किचन गार्डेन

Published

on

बलिया में बेसिक शिक्षा विभाग एक नई पहल करने जा रहा है। जहाँ अब बाउंड्रीवॉल वाले स्कूलों में किचन गार्डेन बनाया जायेगा। पहले चरण में 200 स्कूलों का चयन किया गया है।बीएसए शिवनारायण सिंह के मुताबिक हर स्कूल के खाते में 5 हजार रुपये भेजा है। इसे गार्डेन स्थापना और रख-रखाव पर खर्च किया जाएगा।मिड डे मील में तैयार होने वाले भोजन में ताजी और पोषक युक्त सब्जी बच्चों को मिले, इसके लिए किचन गार्डेन की निगरानी की भी व्यवस्था गई है।

बता दें बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से परिषदीय स्कूलों में दो साल पहले किचन गार्डेन की व्यवस्था की गई थी। ट्रायल के रूप में 10 बिना बाउंड्री वाले स्कूलों में किचन गार्डेन तैयार कराया गया था। मंशा थी कि किचन गार्डेन में उत्पादन होने वाली सब्जी का उपयोग मिड डे मील में किया जाएगा, इससे बच्चों को ताजी सब्जी मिलेगी, लेकिन सरकारी मंशा पर पानी फिर गया। सही तरीके से निगरानी नहीं होने के चलते कोई भी किचन गार्डेन सफल नहीं हुए। इस असफलता से सबक लेते हुए बेसिक शिक्षा विभाग ने अब सिर्फ बाउंड्री वाले स्कूल में किचन गार्डेन की व्यवस्था करने का फैसला लिया है।

कृषि क्षेत्र में बच्चों को प्रोत्साहित करना उद्देश्य-
एमडीएम के जिला समन्यवक अजीत पाठक ने बताया कि किचन गार्डेन से कई फायदे हैं। जिन स्कूल के पास पर्याप्त जमीन नहीं है, वह छतों पर भी गमले, कंटेनर, बैग और अन्य तकनीक का इस्तेमाल कर सकते हैं। कृषि क्षेत्र में भी बच्चों को प्रोत्साहित करेंगे। खरीफ के सीजन में चौलाई, भिंडी, बैगन, करेला, लोबिया, तुरई, कद्दू, लौकी, प्याज व सेम की खेती की जाएगी। रबी सीजन में टमाटर, मटर, मिर्च, फूलगोबी, पत्तागोभी, पालक, मेथी, सोया, धनिया, शिमला मिर्च, बैंगन, प्याज, लहसुन, गाजर व मूली का उत्पादन किया जाएगा।

नहीं खरीदने पड़ेगी महंगी सब्जी- इस पहल से अब प्रधानाध्यापकों को बाजार से महंगे रेट में सब्जी खरीदने से भी मुक्ति मिलेगी। मिड डे मील में प्राथमिक में 4.97 रुपये और जूनियर में 7.45 रुपये प्रति छात्र के हिसाब से कन्वर्जन मनी दी जाती है। खाद्यान्न अलग से मिलता है।वहीं आने वाले दिनों में जिले के सभी 2 हजार 249 परिषदीय स्कूलों में भी बाउंड्री कराने के बाद यह व्यवस्था लागू की जाएगी।

Continue Reading

featured

बलिया- एक्शन में स्वास्थ्य विभाग, 5 महीने से गायब डॉक्टर पर होगी कार्रवाई !

Published

on

बलिया में बिगड़ती स्वास्थ्य व्यवस्था को ठीक करने के लिए स्वास्थ्य विभाग एक्शन मोड में नजर आ रहा है। जहां अब 5 महीने से गायब डॉक्टर निशांत के खिलाफ कार्रवाई के लिए शासन को रिपोर्ट भेजी गई है। जिनका ट्रांसफर सोनवानी सीएचसी से सोनबरसा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के लिए किया गया था, लेकिन वह सोनबरसा में अपना स्थानांतरण पत्र देने के बाद काम पर नहीं गए। ऐसे में CMO डा. नीरज कुमार पांडेय ने उनके विरूद्ध कार्रवाई का अनुरोध किया है। जिसके लिए उन्होंने विभाग के उच्चाधिकारियों को पत्र लिखा है।

शिकायत के बाद जांच में खुलासा- दरअसल चिकित्सकों की मनमानी के कारण सीएचसी सोनबरसा की स्वास्थ्य व्यवस्था बिगड़ गई है। लोगों की शिकायत पर सीएमओ की जांच में मामला पकड़ में आया। सीएमओे ने तीन अन्य चिकित्सकों का भी तीन दिन पहले स्थानांतरण किया है। बताया कि व्यवस्था को ठीक करने के लिए लापरवाह लोगों की समीक्षा की जा रही है। चिकित्सा क्षेत्र में किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी

3 साल से एक जगह पर जमे कर्मचारी हटेंगे- वहीं शासन ने ग्रुप-ग (तृतीय श्रेणी) के कर्मचारियों का हर 3 साल में पटल-क्षेत्र में परिवर्तन करने का निर्देश दिया है। यह परिवर्तन 30 जून तक अनिवार्य रूप से करने को कहा गया है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग में बड़े बदलाव की तैयारी है। सीएमओ ने बताया कि 3 साल से एक ही पटल देख रहे संवेदनशील या लोक व्यवहार की व्यक्तिगत रूप से समीक्षा कर बदलाव की किया जाएगा।

 

Continue Reading

बलिया

बलिया में 21 मई को रोजगार मेला, 10वीं पास युवाओं को मिलेगी नौकरी, इतनी रहेगी सैलरी

Published

on

बलिया के युवाओं के लिए अच्छी खबर है। जिले में एक बार फिर रोजगार मेला लगेगा। जिला सेवायोजन कार्यालय और राजकी आईटीआई के संयुक्त तत्वाधान में 21 मई 2022 को रोजगार मेला का आयोजन रखा गया है। इसमें कई कंपनियां भाग ले रही हैं, जो युवाओं को नौकरी देंगी।

जिला सेवायोजना अधिकारी ने बताया कि मेले में विभिन्न क्षेत्रों की कम्पनिया प्रतिभाग कर रही है। जिसमें लार्सन एण्ड टर्वो एल० एन०टी० पिलखुआ हापुण वेतन 15000 योग्यता 12वीं है। इसके अलावा आई०टी०आई० पास,एस0 आर0 वी0 इण्डस्टील एण्ड हास्पीटेंलटी सिकोरिटी गार्ड वेतन 13000, योग्यता 10वीं पास कार्यस्थल पावर प्लान्ट ललितपुर, रोहित हाईबीड सीडस गाजीपुर ,वेतन – 15000, योग्यता स्नातक पास कार्यस्थल गाजीपुर तथा राजकीय आई०टी०आई०बीक्स इण्डिया लिमिटेड, गुजरात वेतन 15000 योग्यता 12वी आई०टी०आई० पास रखी गयी है।

इन कंपनियों की जानकारी www.sewayojan.up.nic.in पर उपलब्ध है। मेले में 18 से 35 साल तक के युवा भाग ले सकते हैं। जिसमें 10वीं-12वीं, स्नातक, आईटीआई, डिप्लोमा पास अभ्यर्थियों को नौकरी दी जाएगी। इच्छुक उम्मीदवार ऑनलाइन आवेदन कर मेले में प्रतिभाग ले सकते हैं। ध्यान देने वाली बात है कि बिना सेवायोजन कार्यालय की पंजीकरण संख्या तथा कम्पनियों में बिना आनलाइन आवेदन के प्रतिभाग नहीं कर पायेंगे।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!