Connect with us

बलिया

बलिया में राष्ट्रीय त्यौहार की धूम, लोहे की रेलिंग पर रंगा तिरंगा

Published

on

भारत देश में आजादी के 75 साल होने के उपलक्ष्य में अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। बलिया में भी राष्ट्रीय त्यौहार की धूम देखी जा रही है। कई जगह तिरंगा रैली का आयोजन हुआ। जिले को तिरंगे की थीम पर सजाया गया है।

स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में जीवन प्रदाता फाउंडेशन के द्वारा जिले के एकमात्र फ्लाई ओवर ब्रिज की तरफ बने लोहे की रेलिंग को तिरंगे के कलर में रंगा गया है। यह पेंटिंग का कार्य जीवन प्रदाता फाउंडेशन के सभी सदस्यों द्वारा दिनांक 11 अगस्त 2022 से चल रहा है। लोहे की रेलिंग को कलर करने में 250 लीटर पेंट लगेगा। यह पेंट आम लोगों के सहयोग से इकट्ठा किया गया है।

संस्था के द्वारा चिकित्सा, शिक्षा, महिला सशक्तिकरण और पर्यावरण पर कार्य किए जा रहे हैं। फाउंडेशन का आग्रह है कि इस पेंटिंग को सुव्यवस्थित ढंग से पूर्ण करने के लिए आप सभी अपना योगदान दें, जीवन प्रदाता फाउंडेशन उन तमाम साथियों का आभार व्यक्त करता है जो पूरे दमखम के साथ पूरी ऊर्जा के साथ इस कार्य को गति प्रदान कर रहे हैं।

बलिया साल 1942 में आजाद हो चुका था, आजादी के 75 साल पूरे हो चुके हैं। बलिया के लोगों ने आजादी के लिए अपने प्राणों का बलिदान दिया। आजादी के अमृत महोत्सव पर उन वीर शहीदों को याद किया जा रहा है। हर घर तिरंगा अभियान के लिए देशवासियों से अपने घरों पर तिरंगा लगाने का आव्हान किया है।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

बलिया

बलिया: हत्या की वारदात को अंजाम देने वाले 2 आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा

Published

on

बलियाः मॉनिटरिंग सेल, अभियोजक, अपर निदेशक अभियोजन व पैरोकारों की प्रभावी पैरवी के चलते विभिन्न अपराधों के दोषियों को कम समय में ही सजा सुनाई जा रही है। हाल ही में कोर्ट ने दो हत्या के आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

साल 2015 में उभांव थाने में आपराधिक घटना को अंजाम देने वाले मन्टू कुमार पुत्र जयराम (निवासी कुम्हीडीह थाना सिकन्दरपुर, बलिया) व सीताराम पुत्र स्व. उचित राम (निवासी माल्दह थाना सिकन्दरपुर, बलिया) को अपर सत्र न्यायाधीश की कोर्ट ने सजा सुनाई है।

328 भादवि के अपराध में दोषी अभियुक्त को 07 वर्ष का सश्रम कारावास व 1000/-रुपये अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया। अर्थ दण्ड न अदा करने पर 02 माह का अतिरिक्त सश्रम कारावास भुगतना होगा। धारा 302 भादवि के अपराध में प्रत्येक अभियुक्त को आजीवन कारावास की सजा व 1000/- रुपये अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया। अर्थ दण्ड न अदा करने पर 02 माह का अतिरिक्त सश्रम कारावास भुगतना होगा।

धारा 201 भादवि के अपराध में प्रत्येक अभियुक्त को 03 वर्ष का सश्रम कारावास व 500/-रुपये अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया। अर्थ दण्ड न अदा करने पर 01 माह का अतिरिक्त साधारण कारावास भुगतना होगा। धारा 392 भादवि के अपराध में प्रत्येक अभियुक्त को 05 वर्ष का सश्रम कारावास व 500/- रुपमे अर्थ दण्ड से दण्डित किया गया।

Continue Reading

बलिया

कबूतरों की तस्करी कर रहा बलिया का युवक गिरफ्तार, 46 कबूतर बरामद

Published

on

मथुरा में जीआरपी- आरपीएफ ने ट्रेन में सफेद कबूतरों के साथ युवक को गिरफ्तार किया। युवक बलिया का रहने वाला है। जिसकी पहचान धर्मेंद्र कुमार पुत्र देवनाथ निवासी ग्राम नारायनगढ़ के रुप में हुई है। पुलिस ने आोरपी की तलाशी ली दो गत्तों के डिब्बे मिले।

जिन्हें खोला तो इसमें सफेद रंग के 46 कबूतर मिले। जीआरपी प्रभारी निरीक्षक सुशील कुमार ने बताया कि धर्मेंद्र कुमार कबूतरों को अमृतसर पंजाब से लेकर आया था। वह कबूतरों को शिकार के शौकीन लोगों को बेचने का काम करता है। यह बात उसने पूछताछ में स्वीकार की है। बरामद हुए कबूतरों को वन विभाग की टीम के हवाले कर दिया।

डीएफओ रजनीकांत मित्तल ने बताया कि कबूतरों को कैद रखना गैर कानूनी है। यह अधिनियम के ह शेड्यूल-4 के तहत प्रतिबंधित है। जीआरपी ने जो कबूतर बरामद किए हैं वे वह हमें सौंप दिए गए है। हम उन्हें सुरक्षित रखेंगे। तारीख पर न्यायालय में पेश करेंगे। न्यायालय के आदेश के बाद सभी कबूतरों को सुरक्षित वन्य क्षेत्र में कबूतरों को छोड़ दिया जाएगा।

Continue Reading

बलिया

बलिया के इन इलाकों में खुलेंगे 11 स्वास्थ्य उपकेंद्र, ग्रामीण स्तर पर ही मिल सकेंगी स्वास्थ्य सेवाएं

Published

on

बलिया में ग्रामीण अंचलों तक स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाई जाएंगी। इसके लिए चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण के निर्देश के तहत स्थानीय तहसील क्षेत्र में कुल 11 नए स्वास्थ्य उपकेंद्र बनाए जाएंगे। इन स्वास्थ्य केंद्रों में सुरक्षित प्रसव, शिशु देखभाल, टीकाकरण, परिवार नियोजन, बीमारियों का उपचार, गैर संचारी रोगों की स्क्रीनिंग, मानसिक, नाक, कान, आंखों का उपचार व आकस्मिक ट्रामा सेवाएं मिलेंगी।

जिससे ग्रामीणों को इलाज के लिए जिले तक दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी। उन्हें ग्रामीण स्तर पर ही इलाज मिल सकेगा। शासन की योजना के मुताबिक नवानगर व पंदह ब्लाक के चार-चार तथा मनियर ब्लाक के तीन गांव शामिल हैं। इसके लिए जमीन तलाशने को कहा। जिन क्षेत्रों में उप स्वास्थ्य केंद्र बनाए जाएंगे उनमें नवानगर के सिकिया, भीमहर, बिहरा, भरथांव, पंदह गौरी, किकोढा, लखनपार व उससा और मनियर के बहादुरा, निपनिया, पुरुषोत्तम पट्टी शामिल हैं।

सरकार का कहना है कि इन गांवों में यथाशीघ्र जमीन की तलाश कर निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाए। गया है। शासन से निर्देश मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग तैयारियों में जुट गया है। वहीं राजस्व विभाग से रिपोर्ट मांगी गई है। एसडीएम अखिलेश कुमार का कहना है कि  5 तहसील क्षेत्र में बनने वाले 11 नए स्वास्थ्य उपकेंद्रों के लिए जमीन की तलाश शुरू कर दी है। इसमें स्वास्थ्यविभाग की टीम द्वारा लेखपाल व ग्राम प्रधान का सहयोग लिया जा रहा है। इन उपकेंद्रों के बन जाने से लोगों को आसपास ही बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मिल सकेंगी।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!