Connect with us

बलिया

आजादी के बाद पहली बार सिताबदियारा अस्पताल में प्रसव, जेपी के क्षेत्र में खुशी की लहर

Published

on

बलिया। लोकनायक जयप्रकाश नारायण के पैतृक गांव जयप्रकाश नगर सिताबदियारा में आजादी के बाद पहली बार अस्पताल में प्रसव हुआ। गुरूवार को प्रभावती देवी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में अस्पताल के कर्मचारियों ने पहला सुरक्षित स्वस्थ प्रसव कराया। जिससे पूरे सिताबदियारावासियों में खुशी का माहौल देखने को मिला।

दरअसल जेपी के पैतृक गांव जयप्रकाश नगर में आजादी के बाद से अस्पताल तो था लेकिन इस सिताबदियारा के करीब 50 हजार की आबादी के बीच महिलाओं के प्रसव की कोई व्यवस्था नहीं थी। जेपी की यह इच्छा उनके मन में उनके जीवन के साथ समाप्त हो गई। फिर इसी जयप्रकाश नगर दलजीत टोला निवासी राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश ने बीते 3 मार्च को सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की और पत्रक भी सौंपा।

मुख्यमंत्री ने निर्देश जारी और प्रसव केंद्र का उद्घाटन बीते 21 जून को मुख्यमंत्री के हाथों ही हुआ। आजादी के बाद सिताबदियारा में दलजीत टोला निवासिनी संतरा देवी पत्नी सुबोध यादव ने सुबह 10 बजकर 15 मिनट पर पुत्र को जन्म देकर प्रथम प्रसव के रूप में दर्ज कराया। प्रसव कराने वाली टीम में डॉ. देवनीति, डॉ. पवन सिंह, चीफ फार्मासिस्ट कौशलानंद गुप्ता, फार्मासिस्ट संजीव कुमार, एएनएम वंदना राय, स्टॉफ नर्स रंजना प्रजापति, अनुपमा यादव रहीं।

वहीं प्रसूता संतरा देवी ने बताया कि आज के पहले सिताबदियारावासियों को प्रसव के वक्त भारी परेशानियों और काफी खर्चे के साथ करीब 35 किलोमीटर से 60 किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती थी। इसमें कई महिलाओं की जान भी चली जाया करती थी। अब ये सुविधा यहीं मिल रही हैं।

बलिया

ADRM निर्भय नारायण सिंह ने बलिया के सुरेमनपुर किया निशुल्क प्याऊ का उद्घाटन

Published

on

समाजसेवा के क्षेत्र में लगातार काम करने वाले बलिया के दुधैला निवासी ADRM निर्भय नारायण सिंह एक बार अपने मानवीय पहल के चलते चर्चाओं में हैं। निर्भय नारायण सिंह ने जिले के सबसे सुदूर और कोने में नदी किनारे स्थित चई छपरा सुरेमनपुर में निशुल्क प्याऊ का उद्घाटन किया।

उन्होंने बताया कि जीवन का उद्देश्य बड़ा घर, बड़ी गाड़ी, बड़ा प्लॉट ना होकर नर सेवा, समाजसेवा, जन सेवा होना चाहिए क्योंकि कहा भी गया है। नर सेवा ही सच्चा नारायण सेवा है। ईश्वर ने यदि आपको सामर्थ्य प्रदान किया है तो अपने क्षमता के अनुरूप जन कल्याण हेतु सदैव व्यक्ति को तत्पर रहना चाहिए।

इस मौके पर निर्भय नारायण सिंह ने अपने लक्ष्य के बारे में खुलकर बात की। उन्होंने बताया कि मुझे महीने दो महीने में जब भी दो चार दिन छुट्टी मिलती है, मेरा हमेशा से ये प्रयास रहता है कि मैं अपने गाँव समाज एवं क्षेत्र के लोगों के बीच जाकर उनके सुख दुख में शामिल हो सकू और कोशिश करता हूँ कि मैं लोगों के किसी काम आ सकूँ।

इस मौके पर ग्राम प्रधान मंतोष चौधरी, क्यूयुवा नेता भोली साहनी, शैलेश मिश्रा, विजय सिंह, विनोद पासवान, अनुज सिंह, अर्चित राय, रविरंजन सिंह मनु, संजय खरवार, सुशील सिंह, प्रदीप सिंह आदि प्रमुख लोगों के साथ सैकड़ो ग्रामीण उपस्थित रहें।

Continue Reading

बलिया

बलिया के रतसर खेत में लगी आग, गेहूं की खड़ी फसल जलकर खाक

Published

on

बलिया के रतसर नगर पंचायत क्षेत्र के जिगनी मौजा में रविवार दोपहर आग लग गई। इस आगजनी की घटना में गेहूं के 35 बोझ जलकर खाक हो गए। इससे किसानों का काफी नुकसान हुआ है। आग लगने के सूचना दमकल की टीम को दी गई, लेकिन गलत पता नोट होने के चलते फायर ब्रिगेड की गाड़ी गड़वार थाने से सटे जिगनी खास में चली गई। इसके चलते आग पर काबू पाने में बहुत समय लग गया।

जानकारी के मुताबिक, रतसर नगर पंचायत क्षेत्र के जिगनी मौजा में रविवार की दोपहर अज्ञात कारणों के चलते आग लग गई। इस आग की घटना में चलते जिगनी मौजा के किसानों के खेत की खड़ी फसल और खेत में रखे गेहूं के 35 बोझ जलकर खाक हो गए। वहीं, आग की लपटें नगर के तरफ ईश्वर के पोखरा पहुंची, इसमें कुछ किसानों की झोपड़ी और उसमें रखे गए दैनिक उपयोग के सारे सामान जल कर राख हो गए।

वहीं गलत पता नोट होने के चलते फायर ब्रिगेड की गाड़ी भी समय पर नहीं पहुंच पाई। ग्रामीणों ने आग को बुझाने के लिए ट्यूवबेल का सहारा लिया। करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया। इधर आग पर काबू पाने में थाना गड़वार के कांस्टेबल विशाल और कांस्टेबल अभय का सराहनीय योगदान रहा।

Continue Reading

बलिया

बलिया के फेफना स्टेशन पर एक्सप्रेस ट्रेनों के ठहराव को लेकर आंदोलन जारी, लोगों ने दी चुनाव बहिष्कार की चेतावनी

Published

on

बलिया में लगातार रेल सुविधाओं का विस्तार किया जा रहा है लेकिन जिले के फेफना जंक्शन रेलवे स्टेशन पर अभी तक एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव शुरू नहीं हो सका है। इसके चलते क्षेत्र के लोग काफी ज्यादा परेशान हैं और पिछले लंबे समय से वृहद स्तर पर अभियान चलाया जा रहा है। अब लोगों ने ट्रेनों का ठहराव नहीं तो वोट नहीं का नारा बुलंद कर लिया है और इसी तर्ज पर एक व्यापक अभियान चलाया जा रहा है।

बता दें कि क्षेत्रीय संघर्ष समिति फेफना विगत जनवरी माह से फेफना जंक्शन रेलवे स्टेशन पर एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव सुनिश्चित करने, फेफना-गड़वार मार्ग पर स्थित रेलवे क्रॉसिंग पर उपरिगामी सेतु का निर्माण करने और वरिष्ठ नागरिकों की सुविधाएं बहाल करने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं।

क्षेत्रीय संघर्ष समिति फेफना के संयोजक जनार्दन सिंह ने आज पत्रकारों से बातचीत की और कहा कि
विगत 18 मार्च से फेफना जंक्शन रेलवे स्टेशन पर धरना प्रदर्शन प्रारंभ होना था, लेकिन लोकसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद आंदोलन की रणनीति बदल दी गई। उन्होंने कहा कि हमारे द्वारा चुने हुए नेता के ऊपर क्षेत्र की समस्याओं को दूर करने की जिम्मेदारी होती है। यदि वह एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव, उपरिगामी सेतू का निर्माण एवं वरिष्ठ नागरिकों की सुविधाओं जैसी हमारी छोटी मांगों के लिए भी नहीं लड़ता है तो वह हमारा जनप्रतिनिधि नहीं हो सकता।

स्टेशन पर ट्रेनों के ठहराव को लेकर मांगे कई बार स्टेशन मास्टर के माध्यम से रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष को ज्ञापन दिया गया, लेकिन कोई सार्थक पहल नहीं हुई। ऐसे में फेफना जंक्शन रेलवे स्टेशन पर एक्सप्रेस ट्रेनों का ठहराव नहीं तो वोट नहीं का नारा बुलंद करते हुए वृहद स्तर पर अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि यदि शासन प्रशासन अथवा जनप्रतिनिधि जब यह पक्का भरोसा देंगे कि रेल से संबंधित क्षेत्रीय जनता की मांगे पूरी होगी तो वोट दिया जाएगा। अन्यथा वोट का बहिष्कार होगा।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!