Connect with us

बलिया

बलिया- उभांव पुलिस ने अवैध तमंचा व कारतूस के साथ एक शख्स को गिरफ्तार किया

Published

on

बलिया डेस्क: जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर अवैध शराब की तस्करी के विरुद्ध चलाये जा रहे अभियान के क्रम में थाना उभांव पुलिस को सफलता मिली।

थाना उभांव के रणविजय सिंह व दिनेश शर्मा के फोर्स द्वारा एक मुखबीर की सूचना पर हरिनरायण यादव निवासी महुआतर चैनपुर गुलौरा थाना उभांव जनपद बलिया के पास से 1 अवैध तमंचा, 3 जिन्दा कारतूस के अलानव 20 लीटर देशी शराब के साथ गिरफ्तार किया।

पुलिस के मुताबिक इस सम्बन्ध में थाना उभांव पर सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत कर लिया है।

बलिया

यूपी चुनाव: सपा की राज्य कार्यकारिणी घोषित, बलिया से इनको मिली जिम्मेदारी

Published

on

बलिया। उत्तरप्रदेश में 2022 में होने वाले चुनाव को लेकर तैयारी तेज हैं। चुनाव से पहले ही पार्टियां एक मजबूत टीम बनाने में जुटी हैं। इसी बीच समाजवादी पार्टी ने 72 सदस्यीय प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा कर दी है। नई कार्यकारिणी में जातीय समीकरणों को साधा गया है। बलिया से दो नेताओं को जगह मिली है। समाजवादी पार्टी ने बलिया के राम गोविंद प्रजापति और डॉ. संतोष कुमार को सदस्य बनाया है। जिन्हें पार्टी को मजबूत करने की जिम्मेदारी दी गई है। और दोनों ही नेताओं ने भी भरोसा दिलाया है कि जमीनी स्तर पर पार्टी को मजबूत करने का काम करेंगे।

उत्तर प्रदेश राज्य कार्यकारिणी में 24 सचिव और 40 सदस्य भी नामित किए गए हैं। समाजवादी पार्टी ने इस बार राज्य कार्यकारिणी की लिस्ट में सभी जातियों को शामिल किया है। समीकरण को साधते हुए जारी किए गए नामों में क्षेत्रवार जातीय संतुलन साफ देखा जा रहा है। अखिलेश यादव ने विधानसभा चुनाव के ठीक पहले कार्यकारिणी की घोषणा करते हुए नरेश उत्तम पटेल को एक बार फिर सपा का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है। इसके साथ ही राजकुमार मिश्रा को यूपी समाजवादी पार्टी का कोषाध्यक्ष बनाया गया। इसके अलावा समाजवादी पार्टी ने समाजवादी लोहिया वाहिनी की कार्यकारिणी घोषित कर दी है। 

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देश पर बलिया के हुसैनाबाद निवासी अमित कुमार सिंह को समाजवादी लोहिया वाहिनी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी में राष्ट्रीय सदस्य नियुक्त किया है। उन्हें संगठन की मजबूती पर काम करने का निर्देश दिया गया है। चुनाव से ठीक पहले घोषित की गई समाजवादी पार्टी की प्रदेश कार्यकारिणी में हर वर्ग को साधा गया है। जहां और आज ही कांग्रेस ने अपना महिला कार्ड खेला तो वहीं दूसरी ओर अखिलेश यादव पार्टी को मजबूती देने में जुट गए । और एक संतुलित प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा की। जिसमें सभी नेताओं को पार्टी को मजबूत करने की जिम्मेदारी दी गई। हालांकि देखना होगा कि जीत की कोशिश के साथ आगे बढ़ रही समाजवादी पार्टी को इससे कितनी सफलता मिलती है।

Continue Reading

featured

‘मंदिर की जमीन पर अवैध कब्जे से नहीं है मंत्री का संबंध’, क्या फैलाई गई झूठी खबर?

Published

on

बलिया में चित्रगुप्त मंदिर की जमीन पर अवैध कब्जा करने के विरोध में धरना-प्रदर्शन हुआ। भृगु मंदिर के निकट चित्रगुप्त मंदिर है। अखिल भारतीय कायस्थ महासभा ने मंदिर की जमीन पर अवैध कब्जा होने का आरोप लगाया है। अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के डॉ. दयाल शरण वर्मा के नेतृत्व में कब्जे के खिलाफ धरना हो रहा था।

अखिल भारतीय कायस्थ महासभ इस मुद्दे पर क्रमिक अनशन कर रही थी। इस मामले में उत्तर प्रदेश सरकार के राज्यमन्त्री और बलिया सदर के विधायक आनंद स्वरूप शुक्ला का नाम घसीटा जा रहा है। कहा जा रहा है कि आनंद स्वरूप शुक्ला के समर्थन से ही मंदिर की जमीन पर अवैध कब्जा हुआ है। कुछ खबरिया चैनलों ने लिखा है कि मंदिर की जमीन पर अवैध कब्जा करने का आरोप मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला पर है। साथ ही अखिल भारतीय कायस्थ महासभा का क्रमिक अनशन आनंद स्वरूप शुक्ला के खिलाफ था।

भारत समाचार द्वारा इस मसले पर किए गए ट्वीट का स्क्रीनशॉट

भारत समाचार द्वारा इस मसले पर किए गए ट्वीट का स्क्रीनशॉट

इस मामले को समझने के लिए हमने धरना-प्रदर्शन में मुख्य भूमिका निभा रहे अखिल भारतीय कायस्थ महासभा के दयाल शरण वर्मा से बातचीत की। उन्होंने बताया कि “हमारा धरना मंदिर परिसर की जमीन पर अवैध कब्जे के खिलाफ था। ना कि मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला जी के खिलाफ। आनंद स्वरूप शुक्ला का इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है।”

दयाल शरण शर्मा ने बताया कि “आज नगर मजिस्ट्रेट आए थे। उन्होंने आश्वासन दिया है कि मंदिर की जमीन पर अवैध कब्जा रोका जाएगा। लेकिन जो कब्जा कर रहा है वो रात के समय में अवैध निर्माण करा देता है। हालांकि हमने इसे लेकर आज नगर मजिस्ट्रेट को पत्रक सौंपा है।” बता दें कि भृगु मंदिर के पीछे चित्रगुप्त मंदिर है। मंदिर की जमीन पर कुछ लोगों ने कब्जा कर अवैध निर्माण करवा दिया है। जिसके खिलाफ क्रमिक अनशन हो रहा था।

Continue Reading

बलिया

बलिया-ताबड़तोड़ गोलियां चलाते हुए हर्ष फायरिंग का वीडियो वायरल, हरकत में आई पुलिस !

Published

on

बलिया। प्रतिबंध के बाद भी हर्ष फायरिंग की घटनाएं कम नहीं हो रही हैं। ताजा मामला कसेसर में भीमपुरा थाना क्षेत्र से सामने आई है। किड़िहरापुर निवासी विशाल मौर्य का एक पुराना वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने उसका असलहा जब्त कर लिया है। वह भाजपा से जुड़ा बताया जा रहा है। वीडियो वायरल होने के तत्काल बाद कार्रवाई की गई है। वहीं विशाल मौर्य का कहना है कि वीडियो के साथ छेड़छाड़ की गई है। हालांकि पुलिस का कहना है कि जांच की जा रही है।

दरअसल स्वतंत्रता दिवस के दिन गांव के एक स्थान पर ध्वजारोहण के समय की गई हर्ष फायरिंग का पुराना फोटो और वीडियो सोमवार को वायरल हो गया। वीडियो में स्पष्ट दिख रहा है कि फायरिंग की गई है। इसकी आवाज भी सुनाई दे रही है। मामला ट्वीटर पर आने के बाद स्वयं पुलिस अधीक्षक राजकरन नय्यर ने संज्ञान लिया। भीमपुरा पुलिस को कार्रवाई के लिए निर्देश दिया गया। इसके बाद देर शाम को ही पुलिस ने लाइसेंसी असलहा जब्त कर लिया।

बता दें किड़िहरापुर निवासी लंकेश सिंह ने यूपी पुलिस, डीआईजी आजमगढ़, पुलिस अधीक्षक बलिया, आईपीएस एसोसिएशन और सीएम ऑफिस को ट्वीटर पर टैग करते हुए फायरिंग का फोटो और वीडियो अपलोड कर कार्रवाई की मांग की थी। थानाध्यक्ष भीमपुरा आरएस नागर ने बताया कि असलहा जब्त कर लिया गया है। जांच की जा रही है। वहीं विशाल मौर्य का कहना कि फोटो और वीडियो में छेड़छाड़ कर पोस्ट की गई। इसकी जांच होगी तो स्पष्ट हो जाएगा। यह सब चुनावी रंजिश को लेकर किया जा रहा है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!