Connect with us

बलिया स्पेशल

बलिया- एमडीएम के जिला समन्वयक कोरोना पॉजिटिव, BSA ऑफिस हॉटस्पॉट घोषित !

Published

on

बलिया डेस्क :  बलिया के मुख्य चिकित्सा अधिकारी जो कोरोना काल के शुरुआती दौर में कोरोना के खिलाफ लड़ाई की अगुवाई कर रहे थे, रविवार रात कोरोना वायरस के संक्रमण से दम तोड़ दिया। वह 29 दिसंबर को एसजीपीजीआई लखनऊ में भर्ती हुए थे और 02 जनवरी से वेंटिलेटर पर थे।

वहीँ इस दुखद  खबर पर डीएम, एसपी शाही ने कहा कि डॉ. जितेंद्र पाल सिंह लगातार कोरोना के खिलाफ जिले का नेतृत्व कर रहे थे और जिले और लोगों की सेवा में उन्होंने सर्वोच्च बलिदान दिया।

वहीँ अभी इस खबर से बलिया के लोग उभरे भी नहीं थे कि जिला समन्वयक एमडीएम अजीत कुमार पाठक की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने की खबर सामने आई इसके  बाद जिलाधिकारी द्वारा बीएसए कार्यालय को हॉटस्पॉट घोषित किया गया है।

कार्यालय में अधिकारी-कर्मचारी के अलावा नवनियुक्त लगभग 800 से अधिक शिक्षकों की दैनिक उपस्थिति हो रही है। कार्यालय परिसर में विद्यालय भी संचालित है।

ऐसे में कार्यालय, नवनियुक्त शिक्षकों की उपस्थिति व विद्यालय को दो दिन के लिए बंद किया गया है, ताकि कार्यालय को सैनिटाइज कराया जा सके। पांच जनवरी के अपरान्ह तक बीएसए कार्यलय परिसर बंद रहेगा, अब यहां नियमित कार्य छह जनवरी से ही प्रारंभ हो सकेगा।

बलिया में पहले चरण में 10319 स्वास्थ्यकर्मियों को लगेगी वैक्सीन
कोविड-19 टीकाकरण के लिए शासन के गाइडलाइन के अनुसार बलिया में सर्वे आरंभ हो गया है। जनपद में कोरोना टीकाकरण के लिए चार फेज में बांटा गया है। पहले फेज में सरकारी एवं प्राइवेट स्वास्थ्य कर्मी, दूसरे फेज में पुलिस, सफाईकर्मी एवं अन्य रहेंगे। जबकि तीसरे फेज में 50 से ऊपर वाले गंभीर रोगी रहेंगे।

वहीं, चौथे फेज में 50 से नीचे वाले सभी लोगों को शामिल किया गया है। इसके तहत प्रथम फेज में सरकारी 9239 और प्राइवेट 1080 लोगों की सूची तैयार कर ली गई है। इनका मोबाइल नंबर, आधार कार्ड को छोड़कर अन्य आईडी, पिनकोड आदि अपलोड किया जा रहा है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बैरिया

बलिया: सड़क हादसे में किशोर की गई जान, विरोध में लोगों ने किया चक्का जाम, मौक़े पर पहुँचे सांसद

Published

on

बैरिया डेस्क : यातायात नियमों का अनुपालन न होने तथा रफ्तार की मार से  बलिया में सड़क हादसे रुकने का नाम ही नहीं ले रही है। प्रशासन की ओर से जागरुकता अभियान चलाने के बाद भी हादसे थमने का नाम ही नहीं ले रहा। रविवार को भी  हादसा किशोर के साथ पेश आया जहाँ उसकी जान चली गई ।

बताया जाता है कि खेत मे सिचांई कर रहे पिता को खाना पहुचां कर घर लौट रहे किशोर को सोनबरसा गांव के समीप एनएच 31 पर पिकअप ने रौंदा डाला। जिसके बाद घटना स्थल पर ही किशोर की हुई मौत चालक पिकअप लेकर फरार हो गया। विरोध में ग्रामीणों ने एनएच 31 घण्टो जाम कर दिया।

जानकारी के मुताबिक सुनील माली 15 वर्ष पुत्र भूलन माली निवासी सोनबरसा रविवार को दिन में लगभग 11 बजे खेत मे काम कर रहे पिता को खाना पहुचां कर घर वापस लौट रहा था। कि सोनबरसा गांव के सामने एनएच 31 पर बिहार से तेज रफ्तार आ रही पिकअप ने सुनील को रौंद दिया,जिससे उसकी घटना स्थल पर ही मौत हो गयी।

ग्रामीण जब तक मौके पर जुटते पिकअप चालक पिकअप लेकर मौके से फरार हो गया।विरोध में शव को सड़क पर रखकर ग्रामीणों ने एनएच 31 को जाम कर दिया,जिससे वाहनों की लम्बी कतार एनएच पर लग गयी,और जाम की स्थिति पैदा हो गयी। मौके पर पहुचे एसएचओ संजय त्रिपाठी ने जाम कर रहे ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया किन्तु ग्रामीण पुलिस को देखते ही उग्र हो गए और पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारे लगाने लगे।

घटना स्थल पर पहुचे सांसद वीरेन्द्र सिंह मस्त ने ग्रामीणों से बातचीत के बाद मौके से ही डीएम,एसडीएम व सीओ से बात की और तत्काल मौके पर पहुचंकर जाम समाप्त कराने और मृतक के परिजनों को आर्थिक सहायता दिलवाने को कहा। जिसके बाद सपा नेता मनोज सिंह अपने लाव लश्कर के साथ मौके पर पहुचकर सड़क दुर्घटना पर नाराजगी जताते हुए प्रशासन को जिम्मेवार ठहराया और तत्काल पीड़ित को आर्थिक सहायता देने की मांग की।

दुर्घटना के लगभग तीन घण्टे बाद क्षेत्राधिकारी आर के तिवारी के साथ मौके पर पहुचे उपजिलाधिकारी प्रशान्त कुमार नायक ने 10 दिनों के भीतर मृतक के परिजनों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने व सोनबरसा मोड़ पर गति अवरोधक बनवाने का आश्वासन दिया। इसके बाद सड़क जाम समाप्त हो गया।

एसएचओ संजय त्रिपाठी ने बताया कि दुर्घटना करने वाली पिकअप को बरामद कर चालक प्रिंस मिश्र निवासी केवरा थाना बांसडीह कोतवाली को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।पिता के तहरीर पर सम्बन्धितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

 

Continue Reading

बलिया स्पेशल

8 महीने बाद पहली बार बलिया में नहीं मिला कोरोना को कोई नया केस

Published

on

बलिया डेस्क : बलिया में रहने वाले लोगों के लिए राहत की खबर है।  जिले में 8 माह बाद पहली बार कोरोना का कोई केस नहीं मिला है। इसके साथ ही 3 कोरोना मरीजों के ठीक होने पर छुट्टी मिली है।

जिले में शनिवार को 612 लोगों की कोरोना जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से सैंपल लिए गए थे, लेकिन उनमें से किसी व्यक्ति को कोरोना पुष्टि नहीं हो सकी। अब तक जिले में कुल 7211 कोरोना के मरीज पाए गए हैं।

जिले में कोरोना का पहला मामला 11 मई को आया था। इसके बाद से हर रोज कोरोना के नए केस मिल रहे थे। इसके चलते अब तक 7211 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 7094 स्वस्थ हुए हैं। साथ ही कोरोना से 106 लोगों की मौत भी हो चुकी है। फिलहाल जिले में 11 मरीजों का उपचार चल रहा है।

पिछले काफी दिनों से कोरोना के नए मामलों में गिरावट आ रही थी, लेकिन अब 8 महीने बाद रविवार को पहली बार कोरोना को कोई नया केस नहीं आया है।

 

Continue Reading

बेल्थरा रोड

बर्खास्त संविदा स्टाफ नर्स ने अस्पताल अधीक्षक को दी धमकी, जातिसूचक शब्द का इस्तमाल कर पीटने की बात कही

Published

on

बिल्थरारोड डेस्क : सीएचसी सीयर से बलिया सीएमओ के निर्देश पर तीन वर्ष पूर्व से बर्खास्त संविदा की स्टाफ नर्स राधाकृष्ण राय ने वर्तमान अस्पताल अधीक्षक डॉ तनवीर आजम को फ़ोन पर धमकी दी है। उन्होंने मोबाइल पर तनवीर आज़म को जाति सूचक शब्दों का इस्तेमाल करते हुए अपने पक्ष में रिपोर्ट न देने पर पब्लिक के बीच पीटने की धमकी दी है।

जिसका ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वहीँ अस्पताल अधीक्षक डॉ तनवीर आजम ने मामले में कार्रवाई हेतु उभांव थाना पुलिस को लिखित तहरीर दिया है। अस्पताल अधीक्षक डॉ तनवीर आजम ने बताया कि श्रीमती राधा कृष्ण राय ग्राम सुरकुआ मेहदुपार बिशनपुरा थाना दोहरीघाट जनपद मऊ निवासी सीएचसी पर संविदा के तहत स्टाफ नर्स के लिए तीन वर्ष पूर्व कार्यरत थी।

जिसे तत्कालीन सीएमओ के निर्देश पर बर्खास्त कर दिया गया था। मामले में स्टाफ नर्स गत माह नवम्बर में मुख्यमंत्री जनता दरबार में फरियाद लेकर पहुंची थी। जिसके तहत बलिया सीएमओ को आख्या के लिए लिखा गया था। इस संदर्भ में भेजी गई रिपोर्ट को अपने खिलाफ कार्रवाई का हिस्सा बताकर स्टाफ नर्स ने मोबाइल फोन पर जमकर बुरा भला कहा और जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए नौकरी से हटाने की धमकी दी।

अधीक्षक तनवीर आजम ने अपने मोबाइल पर दी गई गाली और धमकी का ऑडियो रिकॉर्डिंग होने का दावा करते हुए कहा कि स्टाफ नर्स ने बलिया सीएमओ को भी बर्बाद करने और अधीक्षक को पब्लिक के बीच चप्पल से पीटने की धमकी दी है।

Continue Reading

TRENDING STORIES