Connect with us

featured

बगैर मुआवजा बन रहा है बलिया में टोंस नदी पर पुल, किसानों ने रोका काम

Published

on

टोंस नदी पर निर्माणाधिन पुल (फोटो साभार: अमर उजाला)

बलिया में टोंस नदी चितबड़ागांव से होकर गुजरती है। चितबड़ागांव नगर पंचायत के उत्तर दिशा से टोंस नदी का बहाव है। यहीं नदी पर एक पुल बनाया जा रहा है। ताकि इस इलाके को बलिया-मऊ मार्ग से जोड़ा जा सके। पुल निर्माण स्थल पर किसानों की खेत है। लेकिन बगैर भूमि अधिग्रहण के ही यहां पुल निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है। जिसके विरोध में किसानों ने पुल का निर्माण रोक दिया।

टोंस नदी पर बन रहे पुल के पास किसानों की तकरीबन नौ साढ़े नौ बीघे जमीन है। जिसे बिना अधिग्रहण और मुआवजे के ही पुल बनाने में इस्तेमाल किया जा रहा है। अमर उजाला की एक रिपोर्ट के मुताबिक किसानों ने बताया है कि हमें अब तक कोई मुआवजा नहीं मिला है और ना ही किसी प्रकार की नोटिस दी गई है। इस बात से नाराज किसानों ने गत मंगलवार को पुल निर्माण का कार्य बंद करवा दिया।

नगर पंचायत के रहने वाले भीमसेन तिवारी और श्रीराम तिवारी ने कहा है कि “हमारी साढ़े नौ बीघा जमीन यहां पर है। इसमें चार खातेदार हैं। बिना भूमि अधिग्रहण के ही पुल बनाया जा रहा है। हमने मुआवजे के लिए शिकायत भी की थी। अधिकारियों ने आश्वासन दिया था कि मुआवजा दिया जाएगा। लेकिन इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। न मुआवजा ही मिला और न कोई नोटिस।”

बलिया के सेतु निगम के पीओ संतराज का बयान छपा है कि किसानों को मुआवजा दिया जाना है। इसके लिए प्रक्रिया चल रही है। सभी को एक साथ ही मुआवजा दिया जाएगा। पुल का काम शुरू करवाने के लिए किसानों से बातचीत हो रही है।” जाहिर है कि सेतु निगम के पीओ का यह बयान मामले को टालने वाला है। उन्होंने मुआवजा देने को लेकर कोई तया तारीख नहीं बताया कि आखिर कब तक यह प्रक्रिया पूरी होगी। किसानों को डर है कि पुल का काम पूरा हो जाने के बाद उनकी मांग नहीं सुनी जाएगी।

बता दें कि टोंस नदी पर साढ़े सतरह करोड़ की बजट से पुल का निर्माण हो रहा है। इसके लिए कुछ ही महीने पहले काम शुरू किया गया था। पुल का कुछ फीसदी काम हो भी चुका है। खंभे आधे बन चुके हैं। लेकिन बीते कल नाराज किसानों ने मुआवजे की मांग को लेकर पुल का काम बंद करवा दिया है। देखने वाली बात होगी कि शासन-प्रशासन अब कौन से आश्वासन देकर पुल का काम एक बार फिर शुरू करवाता है?

featured

तीन मार्गों को मिलाकर बन गया नया स्टेट हाईवे, पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से जुड़ेगा बलिया

Published

on

ghajipur-turtipar road and purvanchal express-way

बलिया जिले को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से जोड़े जाने के लिए शासन की ओर से लगातार कोशिश की जा रही है। लिंक एक्सप्रेस-वे का निर्माण भी बलिया जिले को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से जोड़ने के लिए हो रहा है। अब एक और रास्ता बनाया जा रहा है जो बलिया को पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से जोड़ेगा। लोक निर्माण विभाग ने गाजीपुर से तुर्तीपार तक के तीन सड़कों को मिलाकर स्टेट हाईवे घोषित कर दिया है।

लोक निर्माण विभाग के अधीशासी अभियंता ने मीडिया से बातचीत में कहा है कि “गाजीपुर से तुर्तीपार रोड अब स्टेट हाईवे हो गया है। इसे कोड भी आवंटित कर दिया गया है। यह रास्ता पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे से जुड़ता है। इसलिए संबे समय से इसे गड्ढा मुक्त किए जाने की मांग हो रही थी।”

गाजीपुर से तुर्तीपार तक के 74 किलोमीटर लंबी तीन सड़कों को मिलाकर स्टेट हाईवे बना दिया गया है। लोक निर्माण विभाग की ओर से इसे स्टेट हाईवे कोड 108 दिया गया है यानी एसएच-108. एसएच-108 का 47 किलोमीटर हिस्सा बलिया से गुजरता है। इस हाईवे को अगले वर्ष में फोर लेन बनाने की योजना है। फिलहाल इसे गड्ढा मुक्त बनाया जा रहा है। दैनिक जागरण की एक खबर के मुताबिक बलिया के 47 किलोमीटर हिस्से में अब तक पांच सौ से ज्यादा गड्ढे भर दिए गए हैं।

बलिया के हिस्से की सड़क का चालीस लाख रुपए की लागत से पैचवर्क किया गया है। हालांकि पूरी एसएच-108 का हाल अभी दुरुस्त नहीं हो सका है। गाजीपुर के हिस्से की सड़क अभी भी गड्ढों से पटी हुई है। गाजीपुर में 27 किलोमीटर का मार्ग है। इसे गड्ढा मुक्त किया जाना अभी बाकि है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर कासिमाबाद राही इसी रास्ते बलिया आते-जाते हैं।

Continue Reading

featured

UPTET 2021 की परीक्षा हुई रद्द, पेपर लीक, सॉल्वर गैंग के कई सदस्य गिरफ्तार

Published

on

उत्‍तर प्रदेश में आज (रविवार) यानी 28 नवंबर को आयोजित हो रही UPTET परीक्षा पेपर लीक के चलते रद्द कर दी गई है. परीक्षा का प्रश्‍नपत्र वॉट्सऐप पर लीक हो  गया.

बताया जा रहा है कि पेपर लीक होने की वजह से परीक्षा रद्द हो गई है. इसी के साथ सॉल्वर गैंग के कई मेंबर्स भी गिरफ्तार कर लिए गए हैं. फिलहाल, एसटीएफ मामले की जांच में जुटी है.

पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक, मथुरा, गाजियाबाद, बुलंदशहर के व्हाट्सएप ग्रुप पर वायरल हुआ था पेपर. वहीं, बताया जा रहा है कि एक महीने बाद दोबारा परीक्षा आयोजित की जाएगी. साथ ही, अभ्यर्थियों को दोबारा कोई भी फीस नहीं देनी होगी.

Continue Reading

featured

बलिया में भासपा को झटका, पुनीत कांग्रेस में शामिल, छत्तीसगढ़ के CM ने दिलाई पार्टी की सदस्यता

Published

on

बलिया। सुभासपा के प्रदेश उपाध्यक्ष पुनीत पाठक ने शुक्रवार की शाम लखनऊ स्थित प्रदेश कार्यालय पर कांग्रेस में शामिल हो गए। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उन्हें पार्टी की सदस्यता ग्रहण करायी।

पुनीत पाठक ने बुधवार को सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के सभी पदों से त्यागपत्र दे दिया है। जिसके बाद उन्होंने साफ कर दिया था कि कांग्रेस ज्वाइन करेंगे।

बलिया खबर के साथ बातचीत में पुनीत पाठक ने  बताया था कि “हम आने वाले 26 नवंबर को कांग्रेस ज्वाइन करेंगे। लखनऊ में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मौजूदगी में हम कांग्रेस में शामिल होंगे।”

पुनीत पाठक पूर्व मंत्री स्व. बच्चा पाठक के पौत्र हैं। कांग्रेस में शामिल होने से सुभासपा को बांसडीह विधानसभा क्षेत्र में करारा झटका लगा है। पुनीत पाठक के साथ रेवती के ब्लॉक प्रमुख वीर बहादुर राजभर ने भी कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की।

पुनीत ने कहा कि बाबा (स्व. बच्चा पाठक) के आदर्शों पर चलकर कांग्रेस को पूरी ताकत के साथ मजबूत करने का कार्य करेंगे। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश के विधानसभा का चुनाव मुहाने पर आ चुका है। कांग्रेस युवाओं को अपने साथ जोड़ने की कोशिश में लगी है। पुनीत पाठक उसी कोशिश के परिणाम हैं। बलिया में सात विधानसभा सीटें हैं।

फिलहाल एक भी सीट पर कांग्रेस का विधायक नहीं है। जिले में पार्टी का संगठन खड़ा करने की जुगत चल रही है। देखना होगा कि पुनीत पाठक को बलिया में किस भूमिका में कांग्रेस सामने लाती है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!