Connect with us

बलिया स्पेशल

बलिया में लाल निशान पार करने के बाद घरों में घुसा गंगा का पानी !

Published

on

वाराणसी सहित पूर्वांचल में गंगा का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। सोमवार को काशी में जलस्तर चेतावनी बिंदु के नजदीक पहुंच गया था। लेकिन बुधवार को गंगा का जलस्तर स्थिर था। वाराणसी के आसपास के जिलों में स्थिति भयानक हो गई है। बलिया में गंगा का जलस्तर खतरे के निशान के पास पहुंच गया है।

तो वहीं बलिया में डेंजर लेवल को तो गंगा पहले ही पार कर चुकी है। बलिया में गंगा मीडियम फ्लड लेवल 58.615 मी को भी पार कर सकती है।बढ़ते जलस्तर से वाराणसी सहित आसपास के जिलों में गंगा के तटवर्ती इलाकों के लोगों को घर छोड़ना पड़ रहा हैं, क्योंकि गंगा का पानी अब घरों में घुसने लगा है और बाढ़ की स्थिति बनी हुई है।

पहाड़ी और मैदानी इलाकों में हुई जबरदस्त बारिश के चलते गंगा और उसकी सहायक नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है।
गंगा के लाल निशान पार होते ही सड़क से दक्षिण तरफ बसे आठ गांव बाढ़ के पानी से घिर कर टापू में तब्दील हो गए हैं। पानी से किसानो की खड़ी फसल भी डूब गई है तो वहीं, पशुओं के चारे पर भी संकट खड़े हो गए हैं। चौबे छपरा के कई घरों को गंगा में अपने पेटे में समाहित कर लिया।

गंगा का जलस्तर डेंजर लेवल 57.610 को पार करने के बाद मीडियम फ्लड लेवल 58.615 मी पार करने को बेताब है। मंगलवार की शाम केंद्रीय जल आयोग गाय घाट पर 58.30 मी रिकार्ड किया गया। जबकि प्रति घंटे तीन सेमी का बढ़ाव दर्ज किया गया। गंगा ने खतरे के निशान पार करते ही क्षेत्र में तबाही मचानी शुरू कर दी है।

बलिया में पिछले दिनों से लगातार बढ़ते गंगा के जलस्तर से बाढ़ का पानी अब गांवों पर कहर बरपाने लगा है। सड़क से दक्षिण की ओर से बसे चौबे छपरा, लाला बगीचा, गंगापुर, सुघर छपरा, केहरपुर, मझौवा, गरया, बादिलपुर आदि गांव बाढ़ के पानी से पूरी तरह घिर गए हैं।

गंगा के जलस्तर में लगातार बढ़ाव जारी रहने के कारण गांव के लोग दहशत में हैं। बाढ़ से घिरे गांव के लोगों में प्रशासनिक तैयारियों को लेकर काफी आक्रोश है। गंगा की उफनती लहरों ने अवशेष बचे चौबे छपरा में भी कहर बरपाना शुरु कर दिया है। गांव के अशोक चौबे, नर्वदेश्वर चौबे, नन्द जी यादव, लल्लू यादव के मकानों को गंगा ने अपने पेटे में समाहित कर लिया। इस गांव का अब अस्तित्व मिटने के कगार पर पहुंच गया है।

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

बलिया स्पेशल

बलिया- गांवों से गायब पंचायत सचिव, मीटिंग के नाम पर आम जनता को दे रहे हैं झांसा, करें शिकायत !

Published

on

बलिया डेस्क : यूँ तो पंचायत सचिवों को गांवो में रहकर ग्रामीणों की परेशानी सुनने का फरमान जारी हो चुका है लेकिन बावजूद इसके गाँव में पंचायत सचिव नदारद दिखाई दे रहे हैं. दर असल इसकी एक बड़ी वजह यह है कि विकास भवन से लेकर कलेक्ट्रेट सभागार की मीटिंग में मौजूद रहने की वजह से वह गाँव में नहीं दिखाई दे रहे हैं.

अब चूँकि अधिकारीयों को तो वह झांसा दे नहीं सकते हैं. इसलिए वह गाँव छोड़कर मीटिंग में रहते हैं और इधर क्षेत्र में आम जनता अपनी बुनियादी परेशानी को लेकर इधर उधर धक्का खाती रहती है. पात्र अपात्र और आवास, शौचालय के बीच सचिव उलझ गए हैं. ऐसे में अब वह गाँव के लोगों को ही झांसा देते फिरते हैं. तमाम ग्रामीणों का यह भी कहना है कि बहुत से पंचायत सचिव अपना फोन ही ऑफ़ कर देते हैं.

इसलिए उनसे बात तक करना भी मुश्किल हो जाता है. लोगों का कहना है कि जनपदीय अधिकारी को शायद इस बात का अंदाज़ा नहीं है कि इन सब वजह से आम लोगों को कितनी परेशानी उठानी पड़ रही है. सवाल यह भी उठाया जा रहा है कि जब करीब करीब हर योजना की फीडिग ऑनलाइन है, तो फिर आये दिन होने वाली मीटिंग में आखिर पंचायत सचिवों से कैसे और किस बात का आंकड़ा लिया जा रहा है.

वहीँ इस पर जिला पंचायत राज अधिकारी शशिकांत पांडेय ने कहा है कि हर हाल में पंचायत सचिवों को गाँवों में रहना है. उन्होंने कहा है कि इस फरमान के बाद भी अगर सचिव गाँवों में मौजूद नहीं पाए जाते हैं तो इसकी शिकायत तत्काल ग्रामीण करें. उन्होंने कहा है कि लोगों की शिकायत पर त्वरित कार्यवाही की जाएगी. उन्होंने कहा है कि हर रोज़ मीटिंग नहीं होती है और अगर कोई सचिव ऐसा बोल रहा है तो वह बहनानेबाज़ी कर रहा है.

Continue Reading

featured

कौन बनेगा करोड़पति में पहुँचे बलिया के सोनू, रचा इतिहास, कल आएगा पहला एपिसोड

Published

on

बलिया डेस्क : कौन बनेगा करोड़पति का बारवा सीजन KBC Season 12 सोमवार 28 सितंबर रात 9 बजे सोनी टीवी पर प्रसारित होने के लिए बिल्कुल तैयार है. जिसमें पहले ही एपिसोड में बलिया के लाल सोनू कुमार गुप्ता इतिहास रचते हुए ‘अमिताभ बच्चन के सामने हॉट सीट पर दिखाई देंगे . गौरतलब है की सोनू कुमार गुप्ता बलिया के पहले ऐसे शख्स होंगे जिनको कौन बनेगा करोडपति में जाने का गौरव हासिल है.

यह कार्यक्रम 28 सितंबर यानी कल सोमवार को प्रसारित किया जाएगा. बलिया खबर  को सोनू कुमार ने बताया की इसमें क्वालीफाई करने के लिए पिछले 6 साल से मेहनत कर रहा था. जिसमें की अब जा कर कामयाबी मिली है.

कौन हैं सोनू कुमार गुप्ता :  बलिया के  खेजुरी थाना के जिगिरिसर गांव के रहने वाले सोनू कुमार ने श्री महंत राध इंटर कालेज से  इंटरमीडिएट तक की पढ़ाई की, किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाले सोनू कुमार गुप्ता फिलहाल  छत्तीसगढ़ के रायपुर में एक निजी कंपनी में कार्यरत हैं.

चार भाइयों में दुसरे नंबर के सोनू फिलहाल अपनी इस कामयाबी से बेहद गदगद हैं. सोनू के पिता परमानंद गुप्ता वन विभाग में  कार्यरत थे जो की अब रीटायर हो चुके हैं, इनकी माता शकुन्तला देवी गृहणी हैं.

सोनू कुमार ने बलिया खबर से बात करते हुए कहा की जब शो में बलिया का नाम लिया गया तो समझिये ऐसा लगा जैसे मुझे पूरी दुनिया मिल गई है. शो के बारे में प्रोटोकॉल का हावाला देते हुए उन्होंने और अधिक जानकारी देने से परहेज किया.

विज्ञापन

Continue Reading

featured

बलिया के डॉ. अनिमेश ने हासिल की बड़ी कामयाबी, आल इंडिया लेवल पर किया कमाल!

Published

on

बलिया डेस्क : पूर्व सीएमओ रहे बलिया के डॉ. बद्रीनाथ गुप्ता के छोटे पुत्र डॉ. अनिमेश गुप्ता ने बड़ी सफलता हासिल की है। उन्होंने आल इंडिया स्तर पर आयोजित मास्टर आफ कायरोलाजी के एग्ज़ाम में बड़ी कामयाबी हासिल की है और जिके नाम रोशन किया है। उनकी इस सफलता को लेकर परिवार में ख़ुशी का माहौल है और पूरे इलाक़े के लोग उन्हें बधाई दे रहे हैं।

पूर्व मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. बद्री नारायण गुप्ता के पुत्र एवं शांति देवी नेत्रालय के वरिष्ठ चिकित्सक डा. अभिषेक  गुप्ता के भाई डॉ. अनिमेष गुप्ता ने पिछले वर्ष एमएस जनरल सर्जरी की डिग्री दिल्ली के डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल से लेने के बाद आल इंडिया स्तर पर आयोजित इस वर्ष के एमसीएच के लिये चयनित कर लिए गए है।

डॉ. अनिमेष ने एमबीबीएस की डिग्री सफदरजंग मेडिकल कालेज से लिया। बता दें कि डॉ. अनिमेष यूएन एकेडमी में एनईईटी पीजी की तैयारी करने वालो को आनलाइन पढ़ाने का कार्य करते है। उन्होंने बताया कि सर्जरी के क्षेत्र में बलिया जनपद बहुत पीछे है। सरकारी स्तर पर किसी प्रकार की कोई खास सुविधा नहीं मिलने के कारण सर्जरी के लिए लोगों को दिल्ली और वाराणसी में जाना पड़ता है।

अगर सरकार की ओर से सहयोग मिलता है तो सर्जरी के क्षेत्र में बलिया में बहुत कुछ किया जा सकता है। यह कोर्स पूरा करने के बाद बर्न, कास्मेटिक्स, माइक्रो सर्जरी के क्षेत्र में कार्य किया जाता है।

Continue Reading

Trending