Connect with us

बैरिया

बलिया: बैरिया में चुनावी चहल-पहल, जदयू की ओर से ये होंगे उम्मीदवार

Published

on

उत्तर प्रदेश का विधानसभा चुनाव मुहाने पर खड़ा है। सभी राजनीतिक दल अपनी तैयारियों में जुटे हुए हैं। सात विधानसभा सीटों वाले बलिया जिले में भी चुनावी सक्रियता बढ़ी हुई है। बलिया के सात विधानसभा सीटों में एक सीट है जिसने हर किसी का ध्यान खींचा हुआ है। बैरिया विधानसभा सीट से किस पार्टी की ओर से कौन उम्मीदवार बनने वाला है इसे लेकर अब तक तस्वीरें साफ नहीं हैं। लेकिन बिहार की सत्ताधारी पार्टी जनता दल यूनाईटेड के प्रत्याशी का नाम लगभग तय माना जा रहा है।

बैरिया सीट पर जनता दल यूनाईटेड की ओर से मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय का नाम सबसे आगे है। जदयू के सूत्रों का कहना है कि इस सीट पर रमेश चंद्र उपाध्याय के नाम पर मुहर लग चुकी है महज औपचारिकताएं ही बची हैं। मेजर रमेश भी बैरिया में खूब सक्रिय दिख रहे हैं। पूरा क्षेत्र उनके पोस्टर-बैनरों से पटा हुआ है। क्षेत्र में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जदयू आलाकमान के साथ मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय के पोस्टर लगे हैं।

बैरिया में मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय के लगे पोस्टर

बैरिया में मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय के लगे पोस्टर

ऐसे ही एक पोस्टर पर लिखा गया है “मिशन 2022, आपका फौजी सेवक आपके साथ मिलकर करेंगे बैरिया का विकास।” ये पोस्टर अपने आप में बैरिया सीट के समीकरण बता रहा है। जदयू इस सीट से मेजर रमेश को मैदान में उतारने का मन बना चुकी है। हालांकि इसे लेकर पार्टी की ओर से घोषणा होनी बाकी है।

औपचारिक घोषणा का पेंच गठबंधन को लेकर फंसा हुआ है। जदयू 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन कर उतरना चाहती है। भाजपा और जदयू के बीच गठबंधन को लकेर मामला तय होने के बाद सीटों का बंटवारा होगा। जदयू की पूरी कोशिश रहेगी कि बलिया की बैरिया सीट उनके ही खाते में आए। तो अगर ऐसा होता है तो आगामी चुनाव में मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय जदयू के उम्मीदवार के तौर पर चुनावी रण में नजर आएंगे।

बैरिया

लाल बालू : काली कमाई से बलिया पुलिस हो रही लाल, ट्रकों के लिए अलग तो ट्राली के लिए अलग रेट तय

Published

on

बैरिया। बालू के अवैध कारोबार के बीच ओवरलोडिंग का खेल भी धड़ल्ले से बढ़ता जा रहा है। इस लाल बालू की काली कमाई से पुलिस लाल हो रही हैं। यह खेल चेकपोस्ट पर तैनात पुलिसकर्मियों की मिलीभगत से चल रहा है। वर्तमान समय में अवैध लाल बालू का परिवहन जयप्रकाश नगर व जयप्रभा सेतु मांझी के रास्ते ओवर लोड बालू ट्रक व ट्रैक्टर-ट्राली से वहां से निकलते हैं। चालक ट्रक और ट्रैक्टर ट्राली लेकर जयप्रकाश नगर चौकी व चांददियर चेक पोस्ट पार करते हुए बैरिया सर्किल क्षेत्र के बैरिया, दोकटी, रेवती, हल्दी थाने के सामने से होते हुए जिले के विभिन्न जगहों व गैर जनपदों में जाते हैं।

जिला खनन पदाधिकारी व परिवहन विभाग भले ही यह कहे कि पुलिसकर्मियों की मिली भगत में अवैध बालू परिवहन का खेल चलता है। लेकिन सत्य तो यह है कि खनन विभाग व परिवहन विभाग का इस खेल में पूरी तरह मिली भगत मानी जाती है। वहीं बालू के इस खेल को अनवरत जारी रखने के लिए रास्ते में पड़ने वाले थानों द्वारा जमकर वसूली होती है। सूत्रों की मानें तो इसके लिए अलग-अलग रेट बंधा है और बालू के एजेंट इसकी वसूली करते हैं। जानकारी के अनुसार बिहार से जयप्रभा सेतु के रास्ते प्रतिदिन 300 से 500 ओवर लोड लदे लाल बालू ट्रैक्टर आते हैं। वहीं क्षेत्र में मनमाने कीमत पर बेचा जाता है।

सूत्र बताते हैं कि चांददियर पुलिस पिकेट व जयप्रकाश नगर चौकी पुलिस द्वारा थाने के नाम पर प्रति ट्राली 200 से 250 रुपये की वसूली की जाती है। वहीं ट्रकों के लिए अलग-अलग रेट तय है।बताया जाता है कि ओवरलोड ट्रकों की जांच करने के लिए कभी-कभार पदाधिकारी भी निकलते हैं।वैसे तो यह जांच औचक कही जाती है लेकिन, आश्चर्यजनक रूप से इसकी जानकारी चेकपोस्ट से लेकर ट्रक चालकों तक सभी को होती है।ऐसे में जांच के लिए निकले पदाधिकारियों को या तो खाली हाथ आना पड़ता है या फिर एक-दो ट्रकों पर कारवाई कर अपनी खानापूर्ति कर लेते हैं।

बैरिया क्षेत्र में पहले शाम ढलते ही अवैध लाल बालू लदे ट्रैक्टर-ट्रालियों के निकालने का काम शुरू हो जाता है।फिर देर रात तक सड़कों पर अवैध बालू के ट्रैक्टर दौड़ते रहते हैं।लेकिन अब यह कारोबार दिन-रात चलता है। परंतु इन्हें देखने व रोकने के लिए कोई नहीं है।पुलिस व खनन विभाग के अधिकारी आपसी मिलीभगत के कारण मौन हैं।सबकुछ जानने के बावजूद खनन विभाग के अधिकारी बेखबर बने हुए हैं।जानकारों का कहना है बालू का अवैध कारोबार पुलिस की कमाई का जरिया बन गया है।अगर सूत्रों की मानें तो अवैध लाल बालू के अवैध कारोबार से हुए अवैध वसूली के पैसे में से जिले का आलाधिकारियों का भी हिस्सा बनना हुआ है।

यही कारण है कि आलाधिकारी सबकुछ जानते हुए भी अवैध लाल के खेल को रोकने में अपनी रूचि नहीं दिखाते हैं।जिससे बालू कारोबारियों व क्षेत्रीय पुलिस बेधड़क इस खेल को बड़े ही निश्चिंतता के साथ करते हैं।

रिपोर्ट- तिलक कुमार

Continue Reading

featured

जीत के बाद बोले बैरिया विधायक, मैं सेवक हूं, शासक नहीं, विकास मेरी प्राथमिकता

Published

on

बलिया की बैरिया विधानसभा सीट पर सपा को जीत मिली है। यहां से सपा के जयप्रकाश अंचल यहां से विधायक चुने गए हैं। विधायक बनने के बाद जयप्रकाश अंचल का बयान सामने आया है।

उन्होंने जनता को धन्यवाद दिया और कहा कि विकास मेर प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि छोटे लोहिया पं. जनेश्वर मिश्र व सम्पूर्ण क्रान्ति के प्रणेता लोक नायक जय प्रकाश नरायण की धरती के लोगों का विश्वास टूटने नहीं दूंगा। मैं सबके विकास के लिए काम करूंगा। मैं सबकी बाते सुनूंगा सबका सहयोग करूँगा। मैं यहां का सेवक हूँ। शासक नही हूँ।

वहीं प्रदेश में सपा की सरकार न बनने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि हमारी पार्टी इस बार सत्ता में नहीं आई है। हम लोग विपक्ष में है। सरकार विपक्षियों की बात कितनी गम्भीरता से लेती है यह तो आने वाला समय बताएगा। परन्तु जितना हो सकेगा इस क्षेत्र के विकास के लिए प्रयास करूंगा। इसके साथ ही अंचल ने कहा कि कई काम अधूरे हैं। शिक्षा,चिकित्सा,सड़क, बिजली,पेयजल की समुचित व्यवस्था व बाढ़, कटान का स्थायी निदान मेरी प्राथमिकता है। मैं सभी अधूरे कामों को पूरा करवाउंगा।

Continue Reading

बलिया

टिकट कटने के बाद बैरिया पहुँचते ही हमलवार हुए सुरेंद्र सिंह!

Published

on

भारतीय जनता पार्टी के बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह ने भारतीय जनता पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। इसके बाद उन्होंने मीडियो से बात करते हुए कहा कि बलिया का रिजेक्टेड बैरिया में सेलेक्टेड नही हो सकता है।

इस दौरान सुरेंद्र सिंह भाजपा पर जमकर नाराज हुए। उन्होंने कहा कि बलिया लोकसभा क्षेत्र से सभी 5 सीट भाजपा हारेगी और हराने में मेरा योगदान भी रहेगा। टिकट न मिलने का गुस्सा विधायक के बयानों से साफ नजर आ रहा था। उन्होंने बलिया सांसद और आनंद स्वरूप शुक्ला पर सीधा आरोप लगाते हुए कहा कि मेरा टिकट इन्हीं लोगों ने कटवाया है।

उन्होंने खुलेआम चुनौती देते हुए कहा कि अब देखना है कि किसके पौरुष में दम है। इसके साथ ही सुरेंद्र सिंह ने 11 फरवरी को नामांकन भरने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि मैं किसी भी दल से टिकट मांगने नही जाऊंगा अगर कोई सम्मान के साथ देता है तो स्वीकार कर लूंगा, नहीं तो निर्दल रूप से जनता के बीच आशीर्वाद लेने जरूर जाऊंगा।

बता दें कि पार्टी ने बैरिया सीट से मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला पर भरोसा जताया है। सुरेंद्र सिंह टिकट कटने के बाद से ही पार्टी से नाराज चल रहे थे और उन्होंने पार्टी सदस्यता से इस्तीफा देकर अपनी नाराजगी का एहसास करवा दिया है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!