Connect with us

बैरिया

बलिया: बैरिया में चुनावी चहल-पहल, जदयू की ओर से ये होंगे उम्मीदवार

Published

on

उत्तर प्रदेश का विधानसभा चुनाव मुहाने पर खड़ा है। सभी राजनीतिक दल अपनी तैयारियों में जुटे हुए हैं। सात विधानसभा सीटों वाले बलिया जिले में भी चुनावी सक्रियता बढ़ी हुई है। बलिया के सात विधानसभा सीटों में एक सीट है जिसने हर किसी का ध्यान खींचा हुआ है। बैरिया विधानसभा सीट से किस पार्टी की ओर से कौन उम्मीदवार बनने वाला है इसे लेकर अब तक तस्वीरें साफ नहीं हैं। लेकिन बिहार की सत्ताधारी पार्टी जनता दल यूनाईटेड के प्रत्याशी का नाम लगभग तय माना जा रहा है।

बैरिया सीट पर जनता दल यूनाईटेड की ओर से मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय का नाम सबसे आगे है। जदयू के सूत्रों का कहना है कि इस सीट पर रमेश चंद्र उपाध्याय के नाम पर मुहर लग चुकी है महज औपचारिकताएं ही बची हैं। मेजर रमेश भी बैरिया में खूब सक्रिय दिख रहे हैं। पूरा क्षेत्र उनके पोस्टर-बैनरों से पटा हुआ है। क्षेत्र में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जदयू आलाकमान के साथ मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय के पोस्टर लगे हैं।

बैरिया में मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय के लगे पोस्टर

बैरिया में मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय के लगे पोस्टर

ऐसे ही एक पोस्टर पर लिखा गया है “मिशन 2022, आपका फौजी सेवक आपके साथ मिलकर करेंगे बैरिया का विकास।” ये पोस्टर अपने आप में बैरिया सीट के समीकरण बता रहा है। जदयू इस सीट से मेजर रमेश को मैदान में उतारने का मन बना चुकी है। हालांकि इसे लेकर पार्टी की ओर से घोषणा होनी बाकी है।

औपचारिक घोषणा का पेंच गठबंधन को लेकर फंसा हुआ है। जदयू 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन कर उतरना चाहती है। भाजपा और जदयू के बीच गठबंधन को लकेर मामला तय होने के बाद सीटों का बंटवारा होगा। जदयू की पूरी कोशिश रहेगी कि बलिया की बैरिया सीट उनके ही खाते में आए। तो अगर ऐसा होता है तो आगामी चुनाव में मेजर रमेश चंद्र उपाध्याय जदयू के उम्मीदवार के तौर पर चुनावी रण में नजर आएंगे।

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

code

उत्तर प्रदेश

15 दिन में 60 पशु अज्ञात कारण से मरें

Published

on

बलिया में लगातार क्यों हो रही पशुओं की मौत
15 दिन में 60 पशु अज्ञात कारण से मरें
बैरिया (बलिया)। बैरिया के विभिन्न गांवों में लगातार जानवरों की मौत के मामले सामने आ रहे है, कारण अबतक पता नहीं लग पाया है। बलिया क्षेत्र में 15 दिन के अंदर अज्ञात बीमारी से करीब 60 पशुओं की मौत हो गई। जिससे पशुपालक परेशान हैं। क्षेत्र के किसी भी पशु चिकित्सालय में चिकित्सक अ​धिकारी न होने से इलाज के आसार भी नजर नहीं आ रहे है। क्षेत्र के धतुरीटोला में पांच, शिवाला मठिया में पांच, गोपालनगर में सात, टोला फत्तेराय में तीन, गुमानी के टोला में चार मवेशी कालकवलित हो गए हैं। वहीं भरतछपरा गांव में नरेश, जयराम, प्रभुनाथ, मोनू समेत छह लोगों की गायें एक सप्ताह के भीतर मर गईं।
पशुपालकों ने बताया कि घुटनों में सूजन के बाद मवेशी मरते जा रहे हैं। ऐसे ही कई गांवों के मामले सामने आए हैं। पशुओं में अज्ञात बीमारी फैलने से पशुपालक परेशान हैं। वहीं राजकीय पशु चिकित्सालय सोनबरसा, मुरलीछपरा, लालगंज, करमानपुर, कर्णछपरा जयप्रकाशनगर समेत कई पशु चिकित्सालयों में चिकित्सक तैनात नहीं है। छह से अधिक पशुचिकित्सालयों का चार्ज राजकीय पशुचिकित्सालय रेवती के प्रभारी डा.ओमप्रकाश के जिम्मे है। रेवती के प्रभारी पशुचिकित्साधिकारी डा.ओमप्रकाश ने बताया कि प्रदूषित चारा खाने या चरने से यह बीमारी हो रही है। इसे फंगल इंफेक्शन कहा जाता है। पशुओं में इस तरह का लक्षण मिल तो तुंरत पास के पशु चिकित्सालय से संपर्क करें।

Continue Reading

बलिया

बैरिया में पॉलिटेक्निक कॉलेज का लोकार्पण कर विधायक सुरेंद्र सिंह ने कही ये बात!

Published

on

बलियाः बैरिया के इब्राहिमाबाद में आज पॉलिटेक्निक कॉलेज और सोनबरसा में बने राजकीय विज्ञान महाविद्यालय का लोकार्पण किया गया। इस लोकार्पण कार्यक्रम में क्षेत्रीय विधायक सुरेंद्र सिंह ने जनता को संबोधित किया। इस दौरान विधायक अपनी सियासी ताकत दिखाने की कोशिश करते नजर आए।

इब्राहिमाबाद में 19 करोड़ 12 लाख 18 हजार रुपये की लागत से बने राजकीय पॉलीटेक्निक व 07 करोड़ 33 लाख 31 हजार की लागत से सोनबरसा में बने राजकीय विज्ञान महाविद्यालय के लोकार्पण कार्यक्रम में विधायक सुरेंद्र सिंह ने जनता को संबोधित करते हुए कहा कि मेरे लहु के हर कतरे में यहां के विकास व खुशहाली का जज्बा भरा हुआ है। मेरा उद्देश्य बैरिया विधानसभा क्षेत्र का सर्वांगीण विकास व यहां के लोगों के चेहरे पर मुस्कान है।

कभी मोदी-योगी तो कभी खुद की तारीफ करते नजर आए विधायकः विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा मोदी-योगी की तारीफों के पुल बांधते हुए कहा कि देश मे मोदी व प्रदेश में योगी जा कोई सानी नही है। हमारी दोनों सरकारों ने पवित्र मन से देश और प्रदेश के विकास के लिए लगातार कार्य किया है और इसी तरह बैरिया में मैंने भी पूरे मनोयोग से विकास के लिए लगातार प्रयास किया है

जिसके कारण राजकीय पालीटेक्निक, राजीकीय विज्ञान महाविद्यालय गंगा पार नौरंगा में राजीकीय इंटर कालेज, शिवपुर लालगंज घाट पर गंगा पर पुल सैकड़ों करोड़ की सड़कें व कटानरोधी कार्य हो पाया है। अन्यथा विपक्षी दलों की सरकारों ने क्या किया है यह आप सब जानते है। इस दौरान विधायक ने अपनी सियासी ताकत का भी प्रदर्शन किया।  विपक्षियों को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि यहां की सामंतवादी ताकतें परेशान है जगह-जगह मेरे कार्यो में रोड़ा अटकाने का प्रयास होता है।

किंतु आप लोगों के आशीर्वाद से वैसे लोगों की दाल मेरे सामने नही गल पा रही है। इस दौरान उन्होंने जनता को खुश करते हुए एक और घोषणा की। उन्होंने कहा कि इब्राहिमाबाद में विश्वविद्यालय भी बनेगा। कार्यक्रम के दौरान विधायक ने अपनी प्रशंसा भी की और कहा कि मैं हमेशा आम लोगों की चिंता करता हु।

Continue Reading

बैरिया

बलिया: आधा-अधूरा पालीटेक्निक का विधायक करेंगे लोकार्पण, 45 प्रतिशत ही हुआ है काम, उठे सवाल

Published

on

बलिया। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव को देखते हुए शासन ने अधूरी परियोजनाओं को पूर्ण करने के लिए कमर कस ली है। चुनावी दांव-पेंच खेलने के लिए बड़ी परियोजनाओं पर खास काम किया जा रहा है। जिससे बलिया भी अछूता नहीं है।  बलिया के बैरिया में भी 2 जनवरी को राजकीय पॉलिटेक्निक, इम्ब्राहिमाबाद कॉलेज का लोकार्पण करने का ऐलान इलाके के विधायक ने किया है। हालांकि अबतक सिर्फ 45 प्रतिशत ही काम पूरा हुआ है  लेकिन इसके बावजूद भी विधायक सुरेंद्र सिंह इसका लोकार्पण करेंगे।

सुरेन्द्र सिंह अक्सर विवादों में रहते हैं और एक बार फिर चर्चा में हैं, चर्चा की वजह इस बार उनका कोई बयान नहीं बल्कि इब्राहिमाबाद में निर्माणाधीन राजकीय पालीटेक्निक हैं। वहीं विपक्ष भी इसपर सवाल उठा रहा है, विपक्ष का कहना है कि चुनाव में लाभ लेने के लिए विधायक जल्दीबाजी में आधी अधूरी बिल्डिंग का लोकार्पण कर रहे हैं। जो की सही नहीं है।

वहीं जिले के अधिकारी भी खुल कर बोलने को तैयार नहीं है। सीएंडडीएस के अधिकारियों से बात करने पर एक वरिष्ठ अधिकारी नाम न छपाने की शर्त पर बताया कि “अभी आधे से ज्यादा काम बाकी है। ऐसे में जब हमारा कोई काम ही पूरा नहीं हुआ तो हम लोकार्पण कैसे करेंगे।”

वहीं विधायक सुरेन्द्र सिंह ने निर्माणधीन राजकीय पालीटेक्निक की तस्वीरें 22 दिसम्बर को  सोशल मीडिया हैंडल से शेयर की जिसमें साफ दिख रहा है कि अभी आधे से ज्यादा काम होना बाकी है।

दरअसल  इब्राहिमाबाद में निर्माणाधीन राजकीय पालीटेक्निक के निर्माण कार्य की धीमी गति को लेकर पिछले दिनों बड़े अधिकारियों ने नाराजगी भी जताई थी जबकि निर्माण के लिए त्वरित आर्थिक विकास योजना के तहत लगभग चार करोड रुपए की धनराशि और दी गई है। मुख्यमंत्री की घोषणा क्रम में इस पॉलिटेक्निक का निर्माण फरवरी 2020 में स्वीकृत किया गया था।

लगभग 19.12 करोड़ की लागत से तैयार हो रहे इस कॉलेज के लिए पूर्व में 13.34 करोड़ की धनराशि दी जा चुकी है, जांच के लिए पहुंची टीम ने आपेक्षित प्रगति न होने पर असन्तोष जताया था। 19.12 करोड़ की लागत से राजकीय पॉलीटेक्निक का निर्माण सीएंडडीएस करा रहा है। 31 दिसम्बर तक कार्य पूरा हो जाना चाहिए था। लेकिन निरीक्षण में 45 प्रतिशत कार्य पूर्ण मिला। शासन ने पहले, दूसरे व तीसरे क़िस्त के रूप में लगभग 14 करोड़ रुपये का भुगतान पहले ही कर दिया था।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!