Connect with us

बेल्थरा रोड

बेल्थरा रोड से छह अन्तर्राज्यीय शातिर अपराधी गिरफ्तार, बना रहे थे डकैती की योजना

Published

on

बेल्थरा रोड से छह अन्तर्राज्यीय शातिर अपराधी गिरफ्तार, बना रहे थे डकैती की योजना।

गुरूवार को थाना उभांव पुलिस ने बेल्थरा रोड स्थित के नजदीक छह अन्तर्राज्यीय अपराधियों को पकड़ लिया। इनमें चार पुरूष और दो महिला अपराधी शामिल हैं। मौके पर अपराधियों के पास से 54,000 रुपए नगद, तीन चाकू और चोरी किए गए पांच फोन बरामद किए गए। थाना उभांव के एसओजी और सर्विलांस की संयुक्त टीम ने इन अपराधियों को पकड़ा। पुलिस के मुताबिक सभी छह अपराधी अन्तर्राज्यीय गिरोह के सदस्य हैं। इनके खिलाफ इससे पहले कुल सात मुकदमे दर्ज हैं। आज पुलिस ने इनके खिलाफ आर्म्स एक्ट समेत अन्य कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।

अभियुक्तों ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि ये लोग गोरखपुर में एक किराए के मकान में पिछले एक साल से रहते है। गोरखपुर से ही ट्रेन और बस से दूसरे जनपदों में जाकर फेरी करके सामान बेचते हैं। इसी दौरान ये लोग दुकानों और अन्य जगहों पर चोरी करते हैं। पुलिस ने बताया कि इसी गिरोह के लोगों ने बीते महीने की दो तारिख को बेल्थरा रोड तहसील के पास खड़े मोटर साइकिल की डिग्गी से 45000 रुपए चोरी किया था। उसके बाद सात तारिख को आजाद चौक, गोरखपुर के पास इण्डियन बैंक पर खड़ी मोटर साइकिल की डिग्गी से 40000 रुपए चोरी किया। फिर चौबीस तारिख को देवरिया से साइकिल में टंगे झोले में रखे कुल 30000 रुपए की चोरी की थी।

गिरफ्तार करने वाली टीम में प्रभारी निरीक्षक ज्ञानेश्वर मिश्रा, उप निरीक्षक संजय सरोज, उप निरीक्षक राजेश कुमार, उप निरीक्षक राघवराम यादव, सर्विलांस टीम के शशि प्रताप सिंह, रोहित यादव और राकेश यादव, एसओजी टीम के अनूप सिंह और अतुल सिंह शामिल थे। एसओजी और सर्विलांस टीम ने जिन अपराधियों को गिरफ्तार किया है वे सभी मूल रूप से मध्यप्रदेश के राजगढ़ के रहने वाले हैं। सभी गिरफ्तार अभियुक्तों को जिला अदालत ले जाया जा रहा है। इनमें शालू, अमन, कालू, राज, मंदाकिनी और अंजली शामिल हैं।

गौरतलब है कि बलिया के पुलिस अधिक्षक राजकरन नैय्यर के निर्देशन में जिले में अपराध पर नियंत्रण के लिए अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत पुलिस की टीम जिले में जगह-जगह अपराधियों की धर-पकड़ कर रही है। बलिया में इस तरह के गिरोह काफी समय से सक्रिय हैं जो आए दिन लोगों का पैसा उड़ा देते हैं। अब इन सब पर लगाम कसने के लिए पुलिस की टीम अपराधियों की तलाश कर रही है।

 

featured

बलिया: सहयोग राशि देने में वादा खिलाफी के आरोप पर क्या बोले विधायक धनंजय कन्नौजिया?

Published

on

बलिया के बेल्थरारोड विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक धनंजय कन्नौजिया पर एक राम कथा कार्यक्रम में मंच से 11 हजार रुपए का वादा करके सिर्फ 1 हजार देने का आरोप लगा है। राम कथा कार्यक्रम के आयोजकों ने विधायक धनंजय कन्नौजिया से नाराज होकर उन्हें 1 हजार रुपया लौटा दिया। साथ ही उन्हें दिया गया स्मृति चिन्ह भी वापस ले लिया। इस पूरे बखेड़े पर भाजपा विधायक ने चुप्पी तोड़ी है।

मंच से 11 हजार देने का वादा करके 1 हजार रुपए देने के आरोप पर विधायक धनंजय कन्नौजिया ने कहा है कि “मैंने ऐसी कोई घोषणा नहीं की थी। मंच से 11 रुपए देने की बात अफवाह है। लोग बेवजह मेरी छवि खराब करने के लिए इस तरह की अफवाह फैला रहे हैं। मैं कभी भी धार्मिक कार्यक्रमों में सहयोग राशि देने की घोषणा नहीं करता हूं।”

पूरा बखेड़ा समझिए: बलिया के बेल्थरारोड में पूरा और पतोई गांव द्वारा हर साल नवरात्र के समय राम कथा कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। गांव के ही एक दुर्गा मंदिर पर इस साल भी यह आयोजन किया गया था। राम कथा कार्यक्रम में बेल्थरारोड से भाजपा विधायक धनंजय कन्नौजिया को बतौर अतिथि बुलाया गया था। आयोजकों का कहना है कि कार्यक्रम स्थल पर मंच से धनंजय कन्नौजिया ने ग्यरह हजार की सहयोग राशि देने की घोषणा की। लेकिन बाद में पलट गए और सिर्फ एक हजार रुपया ही दिया। दिलचस्प बात यह है कि राम कथा कार्यक्रम का आयोजक खुद भारतीय जनता पार्टी का ही एक बूथ अध्यक्ष है।ग्यारह हजार का वादा कर एक हजार रुपया थमाने पर कार्यक्रम के आयोजक नाराज हो गए। आयोजकों ने विधायक धनन्जय कन्नौजिया को उनका एक हजार रुपया लौटा दिया। साथ ही कार्यक्रम में दिया गया स्मृति चिन्ह भी वापस ले लिया। आयोजकों ने इस बात की घोषणा बाकायदे मंच पर चढ़ कर दिया। आयोजकों द्वारा मंच से दी गई इस जानकारी का वीडियो सोशल मीडिया पर रायता फैला रहा है।

Continue Reading

featured

बलिया: भाजपा विधायक ने ऐसा क्या कर दिया कि आयोजकों ने स्मृति चिन्ह ही वापस ले लिया!

Published

on

बलिया जिले के बेल्थरारोड में भाजपा विधायक धनन्जय कन्नौजिया को दिया गया सम्मान वापस ले लिया गया। बेल्थरारोड के पूरा गांव में आयोजित एक राम कथा कार्यक्रम में विधायक धनन्जय कन्नौजिया को दिया गया स्मृति चिन्ह वापस ले लिया गया। धनन्जय कन्नौजिया ने राम कथा कार्यक्रम में ग्यारह हजार रुपए की सहयोग राशि देने का ऐलान किया था। लेकिन जब पैसा देने की बारी आई तो विधायक ने सिर्फ एक हजार रुपए ही दिए।

ग्यारह हजार का वादा कर एक हजार रुपया थमाने पर कार्यक्रम के आयोजक नाराज हो गए। आयोजकों ने विधायक धनन्जय कन्नौजिया को उनका एक हजार रुपया लौटा दिया। साथ ही कार्यक्रम में दिया गया स्मृति चिन्ह भी वापस ले लिया। आयोजकों ने इस बात की घोषणा बाकायदे मंच पर चढ़ कर दिया। आयोजकों द्वारा मंच से दी गई इस जानकारी का वीडियो सोशल मीडिया पर रायता फैला रहा है।

दिलचस्प बात यह है कि राम कथा कार्यक्रम का आयोजक खुद भारतीय जनता पार्टी का ही एक बूथ अध्यक्ष है। बेल्थरारोड के पूरा और पतोई गांव द्वारा हर साल नवरात्र के समय राम कथा कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। गांव के ही एक दुर्गा मंदिर पर इस साल भी यह आयोजन किया गया था। राम कथा कार्यक्रम में बेल्थरारोड से भाजपा विधायक धनन्जय कन्नौजिया को बतौर अतिथि बुलाया गया था। कार्यक्रम स्थल पर मंच से धनन्जय कन्नौजिया ने ग्यरह हजार की सहयोग राशि देने की घोषणा की। लेकिन बाद में पलट गए।

इस पूरे मामले पर आयोजन समीति के अध्यक्ष विनय गुप्ता ने बताया कि विधायक जी “चुनाव जीतने के बाद इस मंदिर पर आकर विवाह घर, सोलर लाइट और हैंडपंप देने की बात कह गए थे। लेकिन आज तक उन्हें अपनी बात याद नहीं आई। सिर्फ आश्वासन ही देते रहे हैं।” धनन्जय कन्नौजिया को लेकर क्षेत्र की जनता पहले ही नाराज चल रही है। अपने वादे से पलट जाने की आदत से धनन्जय कन्नौजिया ने बेल्थरारोड के लोगों को आतुर कर दिया है। उत्तर प्रदेश में जब विधानसभा का चुनाव नजदीक है तब ये कारनामे उन्हें भारी पड़ सकते हैं।

Continue Reading

बलिया

दौड़ते-दौड़ते अचानक पानी भरे गड्ढे में गिरा युवक, मौत

Published

on

बलिया में सड़कों किनारे पानी भरे गड्ढे लोगों की जिंदगियां छीन रहे हैं। इन पानी भरे गड्ढों में गिरने से कई लोगों की जान चली गई है। ताजा मामला सुखपुरा थाना क्षेत्र से सामने आया जहां एक युवक सड़क किनारे पानी भरे गड्ढे में गिर गया। मौके पर ही युवक की मौत हो गई। घटना से पूरे इलाके में कोहराम मच गया।

बताया जा रहा है कि सुखपुरा थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत शिवपुर के महुई गांव निवासी राजेन्द्र राजभर का इकलौता पुत्र 23 वर्षीय राकेश रोजाना की तरह मंगलवार की शाम करीब 5 बजे दौड़ने के लिए गया था। उसके कई साथी भी साथ में थे। वे दौड़ते हुए राकेश से आगे निकल गए।

तभी अचानक राकेश अचेत होकर पानी भरे गड्ढे में लुढ़क गया। थोड़ी देर बार जब साथ दौड़ते हुए वापस लौटेे तो उन्हें पानी में राकेश डूबा दिखाई दिए। आनन-फानन में साथियों ने राकेस को बाहर निकाला और पेट के बल लेटाकर पानी निकालने का प्रयास किया। राकेश के परिजनों को सूचना दी।

युवक को अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। ग्रामीणों के अनुसार करीब 16 वर्ष पहले राजेन्द्र के एक अन्य बेटे की मौत सर्पदंश से हो गयी थी। दूसरे बेटे राकेश की भी मौत से परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट गया है। परिवारवालों का रो-रोकर बुरा हाल है। वहीं पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Continue Reading

TRENDING STORIES

error: Content is protected !!